बिजली मिस्त्री बन घूम रहे पाकिस्तानी जासूस को पंजाब पुलिस ने दबोचा, जानिए उसके बारे में

0

नई दिल्ली। पुलवामा हमले के भारत-पाकिस्तान बॉर्डर पर तनाव बढ़ता जा रहा है इस बीच पंजाब पुलिस का आज बड़ी सफलता मिली है। पंजाब पुलिस ने पाकिस्तानी सेना को कथित रूप से संवेदनशील जानकारी पहुंचाने के आरोप में मिलिट्री इंजीनियर सर्विस (एमईएस) के बिजली के मिस्त्री को गिरफ्तार किया है। पंजाब पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक इस बिजली मिस्त्री का नाम राम कुमार है जो फिलहाल जालंधर में रहकर पाकिस्तान को भारत की संवेदनशील जानकारी पहुंचाता था।

सोशल मिडिया के जरिये पकिस्तान को देता था सुचना

पुलिस पूछताछ में पता राम कुमार ने बताया है कि वो सोशल मीडिया के जरिए पाकिस्तान स्थित खुफिया मुखबिर के संपर्क में था और उससे भारत-पाकिस्तान सीमा पर भारतीय सेना की टुकड़ियों के ठिकानों के अलावा इलाके में सेना के काफिले की गतिविधियों के बारे में पूछा गया था। पुलिस जांच में पता चला है कि आरोपी जलांधर में एमईएस छावनी में साल 2013 से बिजली के मिस्त्री के तौर पर काम कर रहा था।

सेना की खास टुकड़ियों के बारे में मांगी गई थी जानकारी पंजाब पुलिस ने यह भी बताया है कि आरोपी से पाकिस्तान के खुफिया मुखबिर ने सेना की कुछ खास टुकड़ियों के बारे में जानकारी मांगी थी। पुलिस ने कहा कि उसने कबूल किया है कि वो सोशल मीडिया के जरिए सेना से जुड़ी संवेदनशील जानकारिया पाकिस्तान को भेजी थी। इसके बाद उसके कई बार पैसे भी मिले थे। आरोपी के पास से पुलिस ने एक मोबाइल फोन और चार सिम कार्ड भी बरामद किए हैं। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर मामले की छानबीन शुरू कर दी है।

इससे पहले एक आर्मी जवान को किया गिरफ्तार

कुछ महीने पहले भारतीय सेना से जुड़ी खुफिया जानकारी बाहर देने के आरोप में सेना के खुफिया विभाग, आइबी और यूपी पुलिस ने एक जवान को गिरफ्तार किया था। इसी बीच यह दूसरी गिरफ्तारी है ऐसे जगह-जगह पर पाकिस्तानी खुफियों का पकड़ा जाना देश की सुरक्षा पर सवाल उठता है गिरफ्तार यह जवान मेरठ में सेना के सिग्नल में तैनात था। आरोपी का नाम कंचन सिंह हैं। इस मामले में सेना के सूत्रों ने बताया कि भारतीय सेना के सिग्नल रेजिमेंट के सैनिक को जासूसी के आरोप में मेरठ छावनी में गिरफ्तार किया गया।

loading...
शेयर करें