Devoted husband की मिसाल है ये इंसान

0

56years

‘मोहब्बत’ का नाम तो सबने सुना होगा लेकिन इसके असली मायने कुछ ही लोग जानते हैं. कहते हैं, मोहब्बत हो तो शिद्दत से हो और ऐसी हो कि किसी के प्यार के लिए पूरी जिंदगी बिता दी जाए. क्या हो अगर आपको पता चले कि एक Devoted husband ने अपने प्यार का ख्याल रखने के लिए अपनी जिंदगी के 56 साल कुर्बान कर दिए हैं.

पढ़ें : 11 लाख लड़कों को विश किया जाएगा ‘Valentine Day’

जी हां, ये सच है और ये मिसाल कायम की है चीन के एक Devoted husband 84 साल के व्यक्ति ने, जिनका नाम है दू युआंफा. युआंफा पिछले 56 सालों से बिस्तर पर पड़ी अपनी पत्नी जोउ यूआई की देखभाल कर रहे हैं. महज 20 साल की उम्र में उनकी पत्नी के पूरे शरीर को लकवा मार गया था.

पढ़ें : दीवानगी ऐसी कि प्‍यार में सरहद पार पाकिस्‍तान पहुंच गया ये आशिक

पत्नी के लिए नौकरी तक छोड़ दी
युआंफा इतने सालों से न सिर्फ अपनी पत्नी का ख्याल रख रहे हैं बल्कि जोउ की देखभाल में कोई कमी न आए, इसलिए उन्होंने अपनी नौकरी तक छोड़ दी. पूर्वी चीन के सुनजियाऊ में रहने वाले दू युआंफा ने पत्नी को लकवा मारने के कुछ ही महीनों बाद 1959 में बतौर कोल माइनर अपनी नौकरी छोड़ दी थी.

पढ़ें : सीएम अखिलेश यादव बोले, मैंने प्‍यार किया…

कुछ ही महीने पहले हुई थी शादी
जिस वक्त जोउ को लकवा मारा था, उससे पांच महीने पहले ही दोनों की शादी हुई थी. युआंफा पास के शहर ताइआन में कोयले की खदान में काम कर रहे थे और वहीं उन्हें एक चिट्ठी मिली कि उनकी पत्नी की तबीयत ठीक नहीं है और वो बिस्तर से उठ नहीं पा रही हैं. जब वो घर पहुंचे, तो उन्होंने पाया कि जोउ का पूरा शरीर अकड़ गया है और वो अपने हाथ से भी किसी सामान को नहीं उठा पा रही हैं. युआंफा को बताया गया कि उनकी पत्नी अब पूरी जिंदगी बिस्तर से उठ भी नहीं पाएंगी. जब जोउ के पूरे शरीर ने काम करना बंद कर दिया तो युआंफा ने तय कर लिया था कि पूरी जिंदगी पत्नी का ख्याल रखेंगे.

पढें : ‘मुझे माफ कर दो, मैं तुमसे बहुत प्‍यार करती हूं’

दोस्तों ने कहा था, बसा लो दूसरा घर
दू के दोस्तों ने उन्हें सलाह दी थी कि वो दूसरी शादी कर लें और जिंदगी में आगे बढ़ जाएं, लेकिन उन्होंने किसी की बात नहीं मानी. इसके बाद उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और दिन-रात पत्नी का ख्याल रखने लगे.

पढ़ें : यूपी के इस गांव की म‍हिलाएं पति से कहती हैं पहले एचआईवी सर्टिफिकेट दिखाओ फिर प्‍यार जताओ

पत्नी को ठीक करने क्या-क्या नहीं किया
पिछले 6 दशकों से दू किसानी कर रहे हैं, ताकि अपना और पत्नी का पेट भर सकें. वो जोउ को खुद खाना खिलाते हैं, उनके बेडपैन बदलते हैं, कपड़े बदलते हैं और हर छोटी-छोटी चीज का ख्याल रखते हैं. उन्होंने पत्नी को ठीक करने के लिए भी न जाने कितने उपाए किए, कई चीनी दवाएं खिलाकर देखी, डॉक्टरों और अस्पतालों के चक्कर तक लगाए, लेकिन उम्मीद की किरण कहीं नजर नहीं आई. आज भी अगर उन्हें पत्नी की बीमारी ठीक करने के लिए कोई आर्युवेदिक नुस्खा बताता है, तो युआंफा पहाड़ों पर जड़ी-बूटियां तलाशने निकल जाते हैं. वो जड़ी-बूटियों को उबालकर पहले खुद चखते हैं, ताकि वो जहरीली न निकले और पूरी तरह से संतुष्ट होने के बाद ही जोउ को खिलाते हैं.

पढ़ें : प्‍यार की इंतहा… कोठे के दलदल से निकाली प्रेमिका

पड़ोसियों से लेकर प्रशासन तक कर रहा मदद
युआंफा ने अपने पड़ोसियों को इतना प्रभावित किया है कि हर कोई उनकी मदद के लिए आगे रहता है. पड़ोसी और रिश्तेदार अक्सर घर की जरूरत का सामान और दवाएं ले आते हैं. स्थानीय प्रशासन ने भी इस कपल को जरूरी आर्थिक मदद उपलब्ध कराता है.

वाकई प्यार करना कोई इनसे सीखें.

Courtesy # aajtak

loading...
शेयर करें