जल्द ही कानपुर से गुजरात के बंदरगाहों तक खुलेगा DFC लिंक

उत्तर प्रदेश के कानपुर से गुजरात के पालनपुर तक समर्पित मालवहन गलियारा (DFC) का 45 प्रतिशत हिस्सा चालू हो जाएगा।

नई दिल्ली: रेलवे अगले साल के अंत तक उत्तर प्रदेश के कानपुर से गुजरात के पालनपुर तक समर्पित मालवहन गलियारा (DFC) का 45 प्रतिशत हिस्सा चालू कर देगी। जिससे गुजरात के तीन बंदरगाहों कांडला, पिपावाव और मुंदरा तक कनेक्टिविटी कायम हो जाएगी।

‘खंड को यातायात के लिए खोल दिया जाएगा’

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) विनोद कुमार यादव ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाददाताओं से बातचीत की। उन्होंने कहा कि इस महीने पूर्वी DFC में कानपुर के भाऊपुर से खुर्जा तक 353 किलोमीटर के खंड और पश्चिमी DFC पर रेवाड़ी से मदार तक 335 किलोमीटर के खंड को यातायात के लिए खोल दिया जाएगा।

मार्च 2021 तक मदार पालनपुर का खंड, जून 2021 तक खुर्जा से दादरी खंड और रेवाड़ी से दादरी खंड दिसंबर 2021 तक पूरा हो जाएगा। इस प्रकार से दिसंबर 2021 तक कानपुर से पालनपुर तक DFC की सीधी कनेक्टिविटी चालू हो जाएगी। पालनपुर से गुजरात के तीन बंदरगाह- कांडला, पिपावाव और मुंदरा पहले ही कनेक्ट हैं।

‘वृद्धि 87.2 लाख टन की’

विनोद यादव ने कहा कि यह भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए और रेल परिवहन में गेम चेंजर होगा। इससे दिल्ली, मुंबई और दिल्ली से हावड़ा मार्ग पर यात्री गाड़ियों की गति और आवृत्ति दोनों में वृद्धि संभव होगी। मालवहन में रेलवे की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए विनोद यादव ने कहा कि नवंबर 2020 में रेलवे के 300 रैकों में माल ढुलाई हुई जबकि नवंबर 2019 में यह संख्या 160 थी। इस प्रकार से 87.5 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। परिमाण में यह वृद्धि 87.2 लाख टन की है।

हर स्टेशन पर बनेंगे गुड्स शेड

वहीं नवंबर 2020 में कुल 58 हजार 726 टन की ढुलाई हुई जबकि अक्टूबर 2020 में यह आंकड़ा 56 हजार 128 टन था। उन्होंने कहा कि DFC के पूरा होने पर रेल से माल ढुलाई में 25 से 30 प्रतिशत की वृद्धि होने की उम्मीद है। इसे ध्यान में रखते हुए DFC के हर स्टेशन पर गुड्स शेड बनाए जा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: मार्च के अंत में गन्ना किसानों के बकाया राशि का भुगतान, चीनी मिल को निर्देश

Related Articles

Back to top button