अब सुप्रीम कोर्ट से 2 साल की नौकरी और मांगेंगे डीजीपी जगमोहन यादव

लखनऊ। 31 दिसंबर को रिटायर होने जा रहे उत्तर प्रदेश के डीजीपी जगमोहन यादव अभी और नौकरी करना चाह रहे हैं। उनके करीबी सूत्रों के मुताबिक इसके लिए अब वह सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे।

जल्द ही अपने सेवा विस्तार के लिए वह याचिका दायर करेंगे। डीजीपी जगमोहन यादव ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में दो साल सेवा विस्तार के लिए याचिका दायर की थी, जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया है। उधर हाईकोर्ट अब यूपी पुलिस के डीजीपी के दो वर्ष के कार्यकाल पर 21 जनवरी को सुनवाई करेगी।

सोमवार को हाईकोर्ट की विशेष बेंच ने डीजीपी जगमोहन से जुड़ी इस याचिका को पुरानी याचिका से जोड़ते हुए 21 जनवरी को सुनवाई के लिए तय कर दिया। जगमोहन के रिटायरमेंट से तीन दिन पहले सोमवार को कामद प्रकाश निगम ने अवकाशकालीन जज न्यायमूर्ति ऋतुराज अवस्‍थी के समक्ष यह याचिका दाखिल की।

याची का तर्क था कि पुलिस सुधार से जुड़ी प्रकाश सिंह कमेटी की रिपोर्ट पर सुप्रीम कोर्ट ने डीजीपी का न्यूनतम कार्यकाल दो साल तय किया हुआ है। मौजूदा डीजीपी जगमोहन छह महीने के कार्यकाल के बाद 31 दिसंबर को पदमुक्त हो रहे हैं, ऐसे में उन्हें दो साल का मौका मिलना चाहिए।

किया गया विरोध

सरकार की तरफ से मुख्य स्थायी अधिवक्ता मंसूर अहमद ने याचिका का विरोध किया और बताया कि इसी नेचर की तीन याचिकाएं हाईकोर्ट में लंबित हैं। खुद याची ने 18 दिसंबर को इसी मसले पर एक जनहित याचिका दायर की थी, जिसकी सुनवाई 21 जनवरी, 2016 को नियत है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button