महाराष्ट्र एटीएस के DIG ने किया दावा, मनसुख की मौत का मामला सुलझाया

मुंबई: महाराष्ट्र एटीएस (Maharashtra ATS) के डीआईजी व बिहार कैडर के 2006 बैच के आईपीएस अधिकारी शिवदीप लंडे ने रविवार को दावा करते हुए कहा है कि उन्होंने महाराष्ट्र (Maharashtra) के हाईप्रोफाइल मनसुख हिरेन की मौत का मामला सुलझा लिया है। खुलासा करते हुए उन्होंने बताया है कि मुंबई पुलिस कांस्टेबल विनायक शिंदे और नरेश धारे समेत एक बुकी को मनसुख हिरेन की मौत के मामले में गिरफ्तार किया है। अदालत में रविवार को इन दोनों आरोपियों को पेश किया गया और इन्हें 30 मार्च तक एटीएस की कस्टडी में भेज दिया है

NIA को सौंपी थी जांच

इस मौत के मामले को लेकर शिवदीप लांडे एक बार फिर से बिहार के बाहर अपने गृह राज्य महाराष्ट्र में चर्चा में हैं। आपको बता दें कि बीते शनिवार को ठाणे के व्यवसायी मनसुख हिरेन की मौत की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) को सौंप दी गई थी। मुंबई के एक पॉश इलाके में विस्फोटकों से भरी स्कॉर्पियो गाडी पकडे जाने के कुछ दिनों बाद हिरेन का शव नदी किनारे बरामद हुआ था। एनआईए टीम विस्फोटकों से भरी गाड़ी की बरामदगी से जुड़े मामले की जांच रही है और उसने सहायक पुलिस निरीक्षक सचिन वाजे को इस सिलसिले में गिरफ्तार किया है।

ये भी पढ़ें : गोण्डा में गैस रिफलिंग करते सिलेंडर में लगी आग, एक-एक कर 12 सिलेंडर फटे

एटीएस को मिली सफलता

इस मामले का खुलासा करते हुए एक अधिकारी ने बताया है कि, “ इन दोनों आरोपियों को बीते शनिवार को इस मामले के संबंध में पूछताछ के लिए एटीएस मुख्यालय में बुलाया गया था। पूछताछ के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया।” उन्होंने बताया कि शिंदे, लखन भैया फर्जी मुठभेड़ के मामले में दोषी है। इसके आगे उन्होंने बताया है कि “महाराष्ट्र एटीएस ने इस मामले में अब तक मृतक के परिजन और पुलिस अधिकारी के अलावा कई लोगों से पूछताछ की है। रविवार को हुई ये गिरफ्तारी एटीएस के लिए बड़ी सफलता हाथ लगी है।

ये भी पढ़ें : BCB पर भड़के शाकिब अल हसन, कहा- ‘IPL में खेलना ज्यादा महत्वपूर्ण’

 

Related Articles