Digital India Mission के 5 साल हुए पूरे, ऐसी रही भारत की डिजिटल यात्रा

Digital India Mission के 5 साल पूरे हो गए हैं। इसे मुहिम को एक जुलाई 2015 में लॉन्च किया गया था। यह पीएम मोदी की महत्वाकांक्षी योजना थी, जिसके तहत हर पंचायत तक इंटरनेट की पहुंच के साथ ही कारोबार को डिजिटली बनाने पर जोर दिया गया। डिजिटल भारत की इस यात्रा में Google भारत सरकार का साझीदार बना। भारत सरकार की तरफ से पॉलिसी लेवल पर JAM (जनधन, आधार, मोबाइल) पर फोकस किया गया। वहीं Google ने डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर को बढ़ने के साथ लोगों को इंटरनेट साक्षर बनाने पर जोर दिया।

केंद्रीय मिनिस्ट्री ऑफ टेलिकॉम फॉर इलेक्ट्रॉनिक्स एडं आईटी कम्यूनिकेशन मिनिस्टर रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि सरकार के डिजिटलीकरण की कोशिश का ही नतीजा था, कि मौजूदा लॉकडाउन के दौर में लोग आसानी से वर्क फ्रॉम होम कर पा रहे हैं। सरकार ने डिटिल भारत के 5 साल पूरे होने पर कहा कि भारत अब डिजिटल भारत-आत्मनिर्भर भारत की ओर बढ़ रहा है। सरकार ने डिजिटल मुहिम के साथ Google को अपना साझीदार बनाया और ट्रेनों के साथ ग्राम पंचायत स्तर पर इंटरनेट का आसान पहुंच बनायी।

Google के मुताबिक इंटरनेट के इस्तेमाल को लेकर महिलाओं को जागरूक करने के लिए Internet Saathi प्रोग्राम शुरू किया। साथ ही टाइपिंग के लिए GBoard को भारत की 60 भाषाओं में लागू किया। साथ ही Google Assistant 9 भारतीय भाषाओं में मौजूद है। भारत पहला ऐसा देश रहा, जहां पर टू-व्हीलर के लिए Google Map की सुविधा उपलब्ध कराई गई। Google Map 10 भारतीय भाषाओं को सपोर्ट करता है। Google फाइल को मंथली एक करोड़ से ज्यादा लोग इस्तेमाल करते हैं। Google ने 28 हजार गांवों के करीब 80 हजार बच्चों को एजूकेट करने के लिए Bolo ऐप लॉन्च किया था।

Digital India Mission: सरकार ने शुरू की डिजिटल सर्विस

  • डिजिटल आधार सर्विस
  • डायरेक्टर बेनिफिट ट्रांसफर
  • कॉमन सर्विस सेंटर
  • डिजी लॉकर
  • मोबाइल बेस्ड UMANG सर्विस
  • UPI सर्विस
  • आयुष्मान भारत
  • ई-हॉस्पिटल
  • ई-नाम
  • ई-पाठशाला
  • नेशनल स्कॉलरशिप पोर्टल

Related Articles