निर्देशक कपिल वर्मा ने बताया कलाकारों को होता हैं इन फिल्मों से लाभ

मुंबई। हाल के दिनों में नसीरुद्दीन शाह, मनोज बाजपेयी, नवाजुद्दीन सिद्दीकी से लेकर राधिका आप्टे, टिस्का चोपड़ा, शेफाली शाह, कुमुद मिश्रा और तापसी पन्नू जैसे स्टार कलाकारों की रुचि लघु फिल्मों में बढ़ रही है। ‘नीतिशास्त्र’ के निर्देशक कपिल वर्मा का कहना है कि लघु फिल्मों में लोकप्रिय कलाकारों के होने से इन फिल्मों को लाभ होता है। ‘नीतिशास्त्र’ को पिछले महीने ‘स्ट्रीमिंग अवार्डस’ में पीपुल्स चॉइस अवार्ड प्रदान किया गया था।


वर्मा ने यहां आईएएनएस को बताया, “छोटी फिल्मों में स्टार कलाकारों की मौजूदगी से इनके दर्शकों की संख्या बढ़ जाती है, जिससे आखिर में निर्माता को फायदा होता है।उन्होंने कहा, “लेकिन कई डिजिटल पोर्टल ऐसे भी हैं, जो स्टार कलाकारों की गैर मौजूदगी के बावजूद लघु फिल्मों का निर्माण करना चाहते हैं।”

‘लार्ज शॉर्ट फिल्म्स’ द्वारा निर्मित ‘नीतिशास्त्र’ यूट्यूब पर रिलीज की गई थी, जिसे 17 लाख बार देखा गया। इस फिल्म के लिए वर्मा को ‘डिजिटल हैश’ के ‘स्ट्रीमिंग अवार्ड्स’ में सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का पुरस्कार दिया गया।दुष्कर्म और बदले पर आधारित यह लघु फिल्म एक युवा, आत्मनिर्भर महिला पर आधारित है, जिसे एक लड़की को न्याय दिलाने के लिए अपने परिवार और ‘धर्म’ में से एक को चुनना है।

उन्होंने कहा, “किसी भी नए फिल्म निर्माता को कोई कहानी लघु फिल्म के रूप में प्रदर्शित करना पसंद आता है, लेकिन इसके लिए निर्माता तलाशना मुश्किल होता है। हालांकि मैं सोचता हूं कि मुख्यधारा से इसे तारीफ मिलना एक सकारात्मक संकेत है।”

Related Articles