शैलजा हत्याकांड: हांडा ने बताया- एक्स्ट्रा मेरिटल अफेयर रखने से किया था मना, इसलिए की हत्या

0

नई दिल्ली। भारतीय सेना के मेजर अमित द्विवेदी की पत्नी शैलजा द्विवेदी की हत्या का मामला अब पूरी तरह से सुलझ गया है। दरअसल, इस मामले में गिरफ्तार किए गए मेजर निखिल हांडा ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। मेजर हांडा ने शैलजा की हत्या का आरोप स्वीकार करते हुए उस राज पर से भी पर्दा उठा दिया है जिसकी वजह से उसने शैलजा की हत्या की थी। हांडा के अनुसार, उसने शनिवार को शैलजा की हत्या का प्लान बनाया था और रविवार को इस घटना को अंजाम दे दिया।

इस बारे में जानकारी देते हुए मामले की जांच कर रही पुलिस टीम ने बताया कि हांडा ने अपना जुर्म कबूल करते हुए बताया है कि उसने शैलजा की हत्या इस लिए की क्योंकि शैलजा ने उसके साथ एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर जारी रखने से साफ़ इंकार कर दिया था।

पुलिस ने बताया कि शैलजा का पति अमित द्विवेदी और निखिल हांडा दोनों ही  नागालैंड के दीमापुर में मेजर के पद पर कार्यरत थे। वहीं दोनों के बीच दोस्ती भी हुई थी। दीमापुर में रहने के दौरान आधिकारिक कार्यक्रमों और अन्य सोशल इवेंट्स में शैलजा और हांडा की मुलाकात होने लगी थी। हांडा वहां अकेले रहते थे। दोनों एक दूसरे को वर्ष 2015 से जानते हैं।

हालांकि इसके बाद अमित की पोस्टिंग दिल्ली कर दी गई थी। बताया गया है कि अमित को पहले से पता था कि निखिल और उसकी पत्नी के बीच लव अफेयर है। उसने कई बार इसे ख़त्म करने की चेतावनी भी दी थी। शैलजा ने अपने पति की बात मानते हुए हांडा से किनारा करना भी शुरू कर दिया था और बातचीत करना बंद कर दिया था।

हांडा के कबूलनामे के अनुसार, उसे पता था कि दिल्ली के बेस अस्पताल में शैलजा का इलाज चल रहा है। इसी वजह से कुछ दिनों पहले वह भी वहां इलाज कराने के बहाने पहुंच गया। शनिवार को दिल्ली में शैलजा की बॉडी बरामद की गई थी। पुलिस ने बताया कि जांच के दौरान पता चला कि बीते 6 महीने में आरोपी ने शैलजा को 3000 बार कॉल किया था। रिपोर्ट के मुताबिक, हांडा ने शैलजा को एक फोन भी गिफ्ट में दिया था। इसके बाद ही पुलिस ने हत्या के आरोप में रविवार को आर्मी ऑफिसर मेजर निखिल हांडा को गिरफ्तार कर लिया गया था।

loading...
शेयर करें