Covid-19 मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टरों का अपमान करना शर्मनाक: MP CM

भोपाल: मध्यप्रदेश के जेपी अस्पताल में एक वरिष्ठ चिकित्सक ने अस्पताल के कर्मचारियों के साथ दुर्व्यवहार पर अपना इस्तीफा सौंप दिया, इस घटना का संज्ञान लेते हुए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को इसे एक शर्मनाक घटना करार दिया, उन्होंने कहा कि Covid-19 जैसी भयानक महामारी से अकेले निपट पाना असंभव है, इसके लिए डॉक्टरों और आम जनता को एक दूसरे का सहयोग करना होगा.

डाक्टरों से बदसलूकी शर्मनाक

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए, मुख्यमंत्री ने कहा, “यह बहुत शर्मनाक है कि कुछ लोगों ने डॉक्टरों और अस्पताल के कर्मचारियों के साथ अशिष्ट व्यवहार किया, जिससे भोपाल के जेपी अस्पताल में हंगामा खड़ा हो गया। किसी भी व्यक्ति को हमारे डॉक्टरों से दुर्व्यवहार करने का कोई अधिकार नहीं है।” आज की घटना के कारण, जेपी अस्पताल के एक वरिष्ठ डॉक्टर को बेहद परेशान किया गया और उन्होंने अपना इस्तीफा सौंप दिया।

उन्होंने कहा कि हम एक सभ्य समाज में रह रहे हैं। इस समय, जब एक साथ खड़े होने की आवश्यकता होती है, तो ऐसी स्थिति न तो सार्वजनिक हित में होती है और न ही इस रवैये के साथ- COVID-19 से निपटा जा सकता है।

चिकित्सा विभाग से जुड़े कर्मचारी होंगे आहत

जेपी अस्पताल में आज हुई घटना, हमारे डॉक्टरों, पैरामेडिकल स्टाफ और चिकित्सा सेवाओं से जुड़े लोगों के मनोबल को प्रभावित करती है जो हमारे कल्याण के लिए दिन-रात काम में लगे रहते हैं। चौहान ने कहा कि मैं सभी लोगों से फिर से अपील करता हूं कि वे सभ्य और जिम्मेदार नागरिक बनें, डॉक्टरों के साथ न ही किसी प्रकार का दुर्व्यवहार और उन्हें अपमानित करने की बजाय उनका मनोबल बढायें।

कोरोना से लड़ रहे योद्धाओं का बढायें मनोबल

मध्य प्रदेश के सीएम ने कहा, “हमारे COVID-19 योद्धा लगातार अपना जीवन दांव पर लगा रहे हैं। वे मानवता की सेवा करने के लिए काम कर रहे हैं। मैंने खुद कई बार अपील की है कि हम सभी को एकजुट होना चाहिए, राजनीति से ऊपर उठना चाहिए और उन सभी के साथ सहयोग करना चाहिए और उनका मनोबल बढ़ाना चाहिए”, ताकि वे बेहतर तरीके से समाज की सेवा करें। ”

जेपी अस्पताल की डॉक्टर ने दिया था इस्तीफा

दरअसल शनिवार की सुबह, जेपी अस्पताल के एक डॉक्टर, योगेंद्र श्रीवास्तव ने आरोप लगाया कि एक व्यक्ति के परिजनों द्वारा डॉक्टर पर उचित इलाज के अभाव का आरोप लगाने के बाद लोगों के एक समूह ने उसके साथ बदतमीजी से बात की। फिलहाल अधिकारियों ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें: लखनऊ पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले व्यक्ति को किया गिरफ्तार

Related Articles