IPL
IPL

जिला प्रशासन ने सूखे हुए पौधों की जगह नए पौधें रोपित करने के दिए निर्देश

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिला प्रशासन ने वृक्षारोपण का लक्ष्य 35 लाख को पूरा करने के लिये अधिकारियों से पूरी शिद्दत के साथ जुटने के निर्देश दिये है।

शाहजहांपुर: उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिला प्रशासन (District administration) ने वृक्षारोपण (Tree planting) का लक्ष्य 35 लाख को पूरा करने के लिये अधिकारियों से पूरी शिद्दत के साथ जुटने के निर्देश दिये है। जिलाधिकारी इंद्र विक्रम सिंह ने विकास भवन सभागार (Vikas Bhawan Auditorium) में गुरूवार को जिला वृक्षारोपण समिति एवं जिला पर्यावरण समिति तथा जिला गंगा समिति की समीक्षा बैठक के दौरान कहा कि कि वर्ष 2020-21 में कराये गये वृक्षारोपण (Tree planting) के अन्तर्गत 75 प्रतिशत पौधें जीवित रहने चाहिए।

जिन स्थानों पर वर्ष 2020-21 में पौधें रोपित किये गये है और उनमें से कुछ पौधें सूख गये है उन सूखे हुए पौधों (Plants)के स्थान पर दूसरे नये पौधें रोपित किए जाए। वर्ष 2020-21 में कराये गये वृक्षारोपण के अन्तर्गत शहरी क्षेत्रों में जिन वृक्षों की जियों टैगिंग रह गयी। उन वृक्षों की जियों टैगिंग शीघ्र अति शीघ्र पूर्ण कर ली जाए अन्यथा की स्थिति में सम्बन्धित की जिम्मेदारी तय की जाएगी।

ये भी पढ़ें : नोएडा की जगह लखनऊ में फिल्म सिटी (Film City) निर्माण की पीआईएल खारिज

इंद्र विक्रम सिंह ने कहा है कि कूड़ा एक स्थान पर एकत्र करकर न जलाया जाए। नदियों के नाले-नालियों में जाली लगवाई गयी है। यह देख लिया जाए कि जाली टूटी तो नहीं है, अगर टूटी हों तो उन्हें ठीक कराया जाना सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा है पाॅलिथीन पर प्रतिबन्ध है,निरन्तर छापेमारी कर पाॅलिथीन पर प्रतिबन्ध लगाया जाए। उन्होंने समूह के माध्यम से कपड़ें के थैले बनवाएं जाने पर विचार प्रकट किया है।

ये भी पढ़ें : जम्मू-कश्मीर में अब तक बर्ड फ्लू का कोई मामला नहीं, मुर्गी का मांस खाना सुरक्षित

कपड़े के थैलों का करें प्रयोग

उन्होने कहा कि समूह के माध्यम से थैलें बनवाएं जाए और प्रमुख चैराहों, बाजारों में स्टाॅल लगवाई जाए ताकि लोग अधिक से कपड़े के थैलों का प्रयोग करें। इसके साथ ही समूह के लोगों को रोजगार का अवसर भी मिलेगा। समिति के सदस्यों द्वारा अवगत कराया गया कि जिन सड़कों का निर्माण कार्य गतिमान हैं उन सड़कों पर धूल-मिट्टी उड़ने के कारण आवागमन में असुविधा होती है। सम्बन्धित निर्माण एजेंसी द्वारा पानी का दृष्टिगत नहीं कराया जाता है। उक्त के दृष्टिगत जिलाधिकारी ने निर्देष दिए है कि जिन स्थानों पर सड़कों का निर्माण कार्य गतिमान है वहा पर पानी का छिड़काव कराया जाना सुनिश्चित किया जाए।

Related Articles

Back to top button