अस्पताल में नवजात बच्ची के मृत पैदा होने पर जिला कलेक्टर ने दिए जांच के आदेश

मध्यप्रदेश के खरगोन स्थित जिला चिकित्सालय में मृत नवजात के पैदा होने को लेकर कलेक्टर कार्यालय के छह घण्टों के घेराव के बाद जिला कलेक्टर ने जांच के आदेश दिए हैं।

खरगोन : मध्यप्रदेश के खरगोन स्थित जिला चिकित्सालय में मृत नवजात के पैदा होने को लेकर कलेक्टर कार्यालय के छह घण्टों के घेराव के बाद जिला कलेक्टर ने जांच के आदेश दिए हैं। जिला कलेक्टर अनुग्रह पी ने बताया कि ग्राम घोटया निवासी पूजा पाटीदार की नवजात बच्ची के मृत पैदा होने के मामले में जिला चिकित्सालय के चिकित्सकों की कथित लापरवाही को लेकर जांच के आदेश दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि खरगोन के एसडीएम सत्येंद्र सिंह तीन दिवस में अपनी जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे जिसके आधार पर आगामी कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी।

उल्लेखनीय है कि गर्भवती पूजा पाटीदार को 21 अक्टूबर की रात्रि जिला चिकित्सालय में भर्ती किया गया था। उसके परिजनों के अनुसार उसे काफी पीड़ा हो रही थी और उन्होंने चिकित्सकों से उसी समय ऑपरेशन से प्रसव कराने का निवेदन किया था। अगले दिन सुबह उसे मृत बालिका शिशु पैदा हुई थी। परिजनों ने चिकित्सकों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए अस्पताल में हंगामा किया था। क्षेत्रीय विधायक रवि जोशी ने भी अस्पताल प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए जांच की मांग की थी। जिला कलेक्टर अनुग्रह पी तथा जिला पुलिस अधीक्षक शैलेंद्र सिंह चौहान के वहां पर आकर उन्हें आश्वस्त किए जाने के बाद प्रदर्शन समाप्त हुआ था।

ये भी पढ़े : गुजराती संगीतकार और लोकसभा सांसद रहे महेश कनोडिया का निधन

इस मामले में जिला चिकित्सालय खरगोन के सिविल सर्जन डॉ राजेंद्र जोशी ने बताया कि भारत सरकार की गाइडलाइन के अनुसार 15 प्रतिशत मामलों में ही ऑपरेशन से प्रसव कराना है। महिला का जब पहली बार परीक्षण किया गया तब सब कुछ ठीक-ठाक था और दूसरी बार परीक्षण के बाद ऑपरेशन किए जाने पर उसे मृत शिशु पैदा हुआ।

Related Articles