गुरूवार को गलती से भी न करें ये काम, नहीं तो बर्बाद हो जाएगा सबकुछ

हिंदू धर्म में गुरुवार के दिन का अधिक महत्व होता है। इस दिन सभी देवी-देवताओं के गुरु ब्रहस्पति का दिन होता है साथ ही नौ ग्रहों में सबसे बड़े ग्रह भी माना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा का अधिक महत्व है। इतना ही नहीं इस दिन विधि-विधान के साथ पूजा करने से गुरु ग्रह भी शांत रहता है।

गुरुवार को गलती से भी न करें ये काम वास्तु शास्त्र के लिए इमेज परिणाम

ज्योतिषशास्त्र में हिंदू धर्म का एक ऐसा शास्त्र है जिसमें मनुष्य के समान जीवन, दिनचर्या और भविष्य के बारें में बताया गया है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार गुरुवार के दिन ऐसे काम नहीं करने चाहिए जिससे आपके परिवार को कोई परेशानी या फिर आपको आर्थिक कारणों से जूझना पड़े।

शास्त्रों में गुरुवार को महिलाओं को बाल धोने के लिए मना किया जाता है। क्योंकि महिलाओं की जन्मकुंडली में बृहस्पति पति का कारक होता है। साथ ही बृहस्पति ही संतान का कारक होता है। इस प्रकार अकेला बृहस्पति ग्रह संतान और पति दोनों के जीवन को प्रभावित करता है। गुरूवार को सिर धोना बृहस्पति को कमजोर बनाता है जिससे कि बृहस्पति के शुभ प्रभाव में कमी होती है।

इसी कारण से इस दिन बाल भी नहीं कटवाना चाहिए जिसका असर संतान और पति के जीवन पर पड़ता है। उनकी उन्नति बाधित होती है।

गुरुवार को गलती से भी न करें ये काम वास्तु शास्त्र के लिए इमेज परिणाम

गुरूवार को नाख़ून भी नहीं काटनी चाहिए और न ही शेविंग करना चाहिए ऐसा करने से गुरु ग्रह को कमजोर होता है। जिससे जीवन शक्ति दुष्प्रभावित होती है। उम्र में से दिन कम करती है।

जिस प्रकार से बृहस्पति का प्रभाव शरीर पर रहता है। उसी प्रकार से घर पर भी बृहस्पति का प्रभाव उतना ही अधिक गहरा होता है। वास्तु अनुसार घर में ईशान कोण का स्वामी गुरु होता है। ईशान कोण का संबंध परिवार के नन्हे सदस्यों यानी कि बच्चों से होता है। साथ ही घर के पुत्र संतान का संबंध भी इसी कोण से होता है। ईशान कोण धर्म और शिक्षा की दिशा है।

घर में अधिक वजन वाले कपड़ों को धोना, कबाड़ घर से बाहर निकालना, घर को धोना या पोछा लगाना। घर के ईशान कोण को कमजोर करता है। उससे घर के बच्चों, पुत्रों, घर के सदस्यों की शिक्षा, धर्म आदि पर शुभ प्रभाव में कमी आती है।

Related Articles