पीठ में हो दर्द तो न करें नजरअंदाज, बन सकता है परेशानी का सबब

अनियमित खानपान और भागदौड़ भरी जिंदगी के बीच तेजी से उभर रही पीठ दर्द की समस्या को आमतौर पर लोग अधिक गंभीरता से नहीं लेते हैं। डॉक्टर्स का मानना है कि शुरुआती दौर में दर्द को नजरअंदाज करना उम्र बढने के साथ बड़ी परेशानी का सबब बन सकता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) के एक सर्वेक्षण के अनुसार देश में 30 साल की उम्र से ऊपर का हर 5वां  व्यक्ति किसी न किसी वजह से पीठ दर्द की समस्या से जूझ रहा है। डॉक्टर्स इसके लिये रोड एक्सीडेंट की बढती आवृत्ति के अलावा लॉन्ग ड्राइविंग और कंप्यूटर पर एक ही पोजीशन में घंटों बैठकर काम करने की आदत समेत अन्य फैक्टर्स को जिम्मेदार मानते हैं।

स्कूली बच्चों के कंधो पर भारी भरकम बैग और युवाओं के लैपटॉप बैग हड्डी की समस्या को बढ़ावा दे रहे हैं। डॉ. नाथ ने बताया कि हड्डी रोग के शुरुआती लक्षण पता चलते ही इसे एक्सर्साइज़ और दवाइयों की मदद से दूर किया जा सकता है। मगर डॉक्टर्स के परामर्श में लेटलतीफी या विशेष लक्षणों पर सर्जरी ही आखिरी विकल्प साबित होती है।

मेरूदंड (स्पाइनल कॉर्ड) यानी रीढ़ की हड्डी कशेरूका और उनके बीच डिस्क से बनी हैं जिनके बीच में कोशिकाएं (सेल्स) होती हैं। मेरूदंड दिमाग से लेकर पीठ के निचले हिस्से तक जाती हैं। पीठ में होने वाला दर्द आम तौर पर मांसपेशियों, तंत्रिका, हड्डियों, जोड़ों या रीढ़ की अन्य संरचनाओं में महसूस किया जाता है। इस दर्द को अक्सर गर्दन दर्द, पीठ के ऊपरी हिस्से के दर्द, पीठ के निचले हिस्से के दर्द या टेलबोन के दर्द (रीढ़ के आखिरी छोर की हड्डी) में विभाजित कर सकते हैं। यह लगातार या कुछ अंतराल पर भी हो सकता है।

डॉक्टर ने बताया कि बैकपेन की सर्जरी युवा, अधेड या बुजुर्गो के लिये अलग-अलग हो सकती है। इनके लिये एक सी चिकित्सीय पद्धति (मेडिकल मेथड) कारगर नही होगी। मसलन युवाओं में आमतौर पर पीठ दर्द के पीछे डिस्क प्रोलेप्स कारण होता है। जबकि 40 से 60 साल के उम्र के लोगों में स्पांडलाइटिस, कैनाल स्टेनोसिस की समस्या पाई  जाती है। जबकि बुजुर्गों की हड्डी में चूने की कमी से आमतौर पर आस्टियोपोरोसिस और पीठ के पीछे ज्वाइंट में गठिया यानी आस्टियो आर्थाइटिस की बीमारी होती है।

डॉ. नाथ ने बताया कि डिस्क प्रोलेप्स या स्लिपड डिस्क की समस्या से ग्रसित मरीज को हफ्तों तक कमर के नीचे दर्द बना रहता है। हर 2 वर्टेब्रे के बीच में एक डिस्क होती है। डिस्क के अंदरूनी हिस्से को न्यूक्लियस और बाहरी को एन्यूलस कहते हैं। न्यूक्लियस में विकार होने से नर्व रूट पर पड़ने वाले दबाव के कारण मरीज को असहनीय दर्द का अनुभव होता है। विशेष प्रकार की एक्सर्साइज़ और दवाइयों से आराम नही मिलने पर सर्जरी के जरिये डिस्क एक्सिजन किया जाता है। जिससे मरीज कुछ ही समय में पहले की तरह स्वस्थ हो जाता है।

उन्होने बताया कि साइटिका के मामले में कमर के निचले भाग में मरीज को असहनीय दर्द होता है। स्पांडलाइटिस में डिस्क का अंदरूनी हिस्सा यानी न्यूक्लियस सूख जाता है जबकि कैनाल स्टेनोसिस में नर्व सिकुड जाती है। तीनों ही मामलों में मरीज की सर्जरी कर कैनाल वाइडनिंग के जरिये इलाज किया जाता है। डॉ. नाथ ने बताया कि उम्र बढ़ने के साथ-साथ सर्जरी जटिल होती जाती है। बुजुर्गो मे आस्टियो आर्थराइटिस के ज्यादा प्रभावित डिस्क को फ्यूजन के जरिए निकाल दिया जाता है। जिससे बाधित नर्व रूट सामान्य हो जाता है और मरीज को आराम मिलता है।

Related Articles

Back to top button