क्या आप जानते हैं मकर संक्रांति (Makar Sankranti) के दिन पतंग क्यों उड़ाया जाता है, जानिए  वजह

मकर संक्रांति (Makar Sankranti) एक भारतीय पर्व (Indian festival) है इस दिन स्नान और दान को काफी महत्व दिया जाता है

नई दिल्ली: मकर संक्रांति (Makar Sankranti) एक भारतीय पर्व (Indian festival) है इस दिन स्नान और दान को काफी महत्व दिया जाता है इसके साथ ही सभी लोग मकर संक्रांति पर पतंग भी उड़ाते है। इस त्योहार में पतंग उड़ाने को खास परंपरा के तौर पर माना जाता है, उस दिन सभी लोग पतंग उड़ाकर खुशियां मनाते है। लेकिन क्या आप पतंग उड़ाने के पीछे की कहानी को जानते है, अगर नही, तो जानिए पुरी वजह।

यह भी पढ़े: मकर संक्रांति पर जानें पतंग (Kite) उड़ाने का राज?

मकर संक्रांति मनाने की वजह

माना जाता है कि मकर संक्रांति पर पतंग उड़ाने की परंपरा भगवान श्री राम के समय में ही शुरू हुई थी और आज भी इस परंपरा को निभाया जाता है। मकर संक्रांति के दिन श्री राम ने भी पतंग उड़ाई थी और वह पतंग वापस आने के बजाए सीधे इंद्रलोक में चली गई थी।

वह पतंग स्वर्ग लोक में विराजमान इंद्र के पुत्र जयंत के पत्नी की हाथ लगी और यह पतंग उनको इतना ज्यादा पसन्द आई कि उनहोंने पतंग को अपने पास रख लिया। जयंत की पत्नी ने सोचा की जिसकी पतंग है वह इसे वापस लेने अवश्य आएगा।

पतंग की खोज में हनुमान 

उधर भगवान श्री राम ने पतंग की खोज करने के लिए हनुमान को आदेश दिया जब रामभक्त हनुमान पतंग की खोज में जयंत की पत्नी के पास पहुंचे और पतंग वापस करने की मांग की तो जयंती की पत्नी ने भगवान श्री राम के दर्शन पाने के लिए इच्छा व्यक्त की। हनुमान वापस आकर इन घटनाओं के बारे में भगवान राम से पुरी बात बताई।

इस पर भगवान राम ने कहा कि वह चित्रकूट में उनके दर्शन कर सकती हैं। भगवान राम के इस संदेश को हनुमान ने जयंत के पास पहुंचाई जिसके बाद जयंत की पत्नी ने हनुमान जी को पतंग लौटा दी और भगवान राम के द्वारा शुरू की गई इस परंपरा को आज भी निभाया जाता है।

यह भी पढ़े:जानिये क्या है मकर संक्रांति का पौराणिक महत्व, कैसे करे इस ख़ास दिन की शुरुआत

Related Articles

Back to top button