डॉक्टर भी सरकार से हुए नाराज, भारत बंद के दिन 10,000 जगहों पर करेंगे प्रदर्शन

देश भर में कृषि कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है, आज यानि आठ दिसंबर मंगलवार को सिर्फ किसान ही नहीं बल्कि सरकार से नाराज चल रहे डॉक्टरों ने भी विरोध प्रदर्शन करने का आवाहन किया है।

लखनऊ: देश भर में कृषि कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है, आज यानि आठ दिसंबर मंगलवार को सिर्फ किसान ही नहीं बल्कि सरकार से नाराज चल रहे डॉक्टरों ने भी विरोध प्रदर्शन करने का आवाहन किया है। डॉक्टर कल देश भर में 10,000 से अधिक सार्वजनिक स्थलों पर विरोध प्रदर्शन करेंगे।

डॉक्टरों ने केंद्रीय चिकित्सा परिषद की ओर से जारी अधिसूचना के खिलाफ कल विरोध प्रदर्शन करने का फैसला किया है। इस अधिसूचना के तहत स्नातकोत्तर आयुर्वेद सर्जरी के छात्रों को भी आधुनिक चिकित्सा और शल्य चिकित्सा प्रक्रियाओं का अध्ययन करने और अभ्यास करने की मंजूरी दी गई है। इसी वजह से देश भर के डॉक्टर नाराज हैं।

ये भी पढ़ें : वेस्टइंडीज बोर्ड ने की पुष्टि- बंगलादेश दौरे पर अगले सप्ताह होगा अंतिम फैसला

भारतीय मेडिकल एसोसिएशन ने बताया कि कल 11 दिसंबर को सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक प्रदर्शन किए जाएंगे। इस दौरान गैर अनिवार्य और गैर कोरोना सेवाएं बाधित रहेंगी। आईएमए ने बताया कि सभी आपातकालीन सेवाएं जारी रहेंगी। ओपीडी सेवाएं उपलब्ध नहीं होंगी और पहले से तय ऑपरेशन भी नहीं किए जाएंगे। आईएमए का कहना है कि वन सिस्टम पॉलिसी, आधुनिक चिकित्सा व्यवस्था को पूरी तरह खत्म कर देगी।

ये भी पढ़ें : महासचिव तरुण चुघ ने कहा- जम्मू कश्मीर में बैलट के सामने बुलेट हुई पराजित

इस संबंध में आईएमए के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉक्टर राजन शर्मा का कहना है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 द्वारा चिकित्सा बहुलतावाद की वकालत करने और सभी चिकित्सा प्रणालियों के मिश्रण के लिए नीति आयोग की 4 समितियां बड़े सबूत के रूप में सामने आई हैं। वन सिस्टम पॉलिसी आधुनिक चिकित्सा तंत्र को पूरी तरह खत्म कर देगी। आईएमए का कहना है कि आर्युवेद चिकित्सकों द्वारा सर्जरी के कानूनी अभ्यास की अनुमति के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया जाएगा।

Related Articles

Back to top button