IPL
IPL

ये है प्रभु की लीला! चलती ट्रेन में बीमार महिला का इलाज करने पहुंचे डॉक्टर

Railway_Minister_Suresh_Prabhu_PTI_Photo_0_0_0_1_0नई दिल्‍ली। ये है प्रभु की लीला। अरे ये वो वाले प्रभु नहीं बल्कि अपने रेल मंत्री सुरेश प्रभु हैं जो आजकल कुछ ऐसे-ऐसे कारनामे कर रहे हैं कि सुनने वाले भी हैरान रह जाते हैं। अभी कुछ दिनों पहले ट्रेन में भूख से जूझते बच्‍चे के लिए प्रभु ने एक ट्वीट पर दूध की बोतल का इंतजाम मिनटों में करवा दिया। वहीं अब खबर आई है कि एक बेहद बीमार महिला के लिए प्रभु ने चलती ट्रेन में डॉक्‍टर भेज उनकी मदद की। वो भी सिर्फ एक ट्वीट की वजह से।

जाानिए कैसे प्रभु करेंगे आपकी मदद-  ट्रेन के सफर में हो परेशानी तो ‘प्रभु’ करेंगे आपकी मदद

एक अंग्रेजी अखबार की खबर के मुताबिक राजस्‍थान की सोनम चौधरी अपने एक साल के बेटे शौर्य के साथ बरेली से भुज जाने वाली एक्सप्रेस में सफर कर रही थी। ट्रेन के दिल्‍ली को क्रॉस करते ही महिला ने अपने पति सोनू चौधरी को फोन कर बताया कि उनकी तबीयत बिगड़ती जा रही है, उनहें तेज बुखार भी है। हालांकि साथी पैसेंजर महिला की मदद कर रहे थे लेकिन उन्‍हें कोई राहत नहीं मिली।

ये भी पढ़ें- चलती ट्रेन में मनचले कर रहे थे छेड़खानी, प्रकट हो गए ‘प्रभु’

वहीं पत्नी की हालत लगातार बिगड़ते देख उनके पति सोनू ने दोपहर तीन बजे के करीब रेल मंत्री सुरेश प्रभु और एनडब्लूआर के महाप्रबंधक अनिल सिंघल को ट्वीट किया। इस ट्वीट के बाद काफी तेजी से प्रतिक्रिया हुई और महिला के इलाज के लिए फिजिशियन को तैयार किया गया।

इसके बाद ट्रेन जब दिल्ली जयपुर रूट पर बांदीकुई स्टेशन पहुंची तो डॉक्टर मरीज को देखने के लिए बी1 कोच की सीट नं 40 पर पहुंच गए और बुखार से तपती सोनम चौधरी की जांच कर उसे जरूरी दवाइयां दी गईं।

रेलवे द्वारा उपलब्‍ध करवाई गई चिकित्सा के बाद महिला के पति सोनू चौधरी ने पत्‍नी से बात की तो उन्‍होंने बताया कि अब उनकी तबियत में सुधार है। सोनू ने जरूरत के समय तुरंत चिकित्सा सुविधा उपलब्‍ध कराने के लिए रेल मंत्री और रेलवे से संबंधित अधिकारियों का आभार जताया।

इससे पहले बीते 29 नवंबर को भी एक ऐसा ही वाकया सामने आया था जब बैंगलोर में एक युवक पक्षाघात से पीड़ित अपने पिता के साथ ट्रेन में सफर कर रहा था।

युवक इस बात को लेकर परेशान था कि वह इतनी सुबह कैसे अपने बीमार पिता को लेकर स्टेशन पर उतरेगा। उसने ट्विटर के माध्यम से अपनी दिक्‍कत साझा की तो रेलवे अधिकारियों ने तुंरत उसके पिता को ट्रेन से लाने के लिए कुली और व्हीलचेयर की व्यवस्‍था करवा दी।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button