दहेज़ लोभियों ने बहु को दो मंजिला ईमारत से फेंका, रीढ़ की हड्डी टूटी

प्रतीकात्मक
प्रतीकात्मक

बांदा: दहेज एक सामाजिक कुप्रथा है जिसको रोकने के लिए सरकारी व गैर सरकारी संस्थायें लगातार काम कर रही हैं. सरकार और संस्थाओं के सभी प्रयासों को दर किनार करते हुए दहेज लोभी आज भी बेटियों पर अत्याचार करने से बाज नहीं आ रहे हैं. ऐसा ही एक मामला यूपी के बाँदा से सामने आया है जहां दहेज के दानवों ने एक विवाहिता को मारपीट कर बेहोशी हालत में छत से फेक दिया गया. जिसके चलते विवाहिता की रीढ़ की हड्डी टूट गई है. जिसके बाद से पीड़ित विवाहिता अपने माँ के घर पर रह कर अपना इलाज करा रही है. पीड़िता के द्वारा पूरे मामले की जानकारी पुलिस को दी गई थी, लेकिन पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ अभी तक कोई भी कार्रवाई नहीं की है.

पूरा मामला बांदा के देहात कोतवाली थाना क्षेत्र के छेहरांव गांव का है. जहां की रहने वाली लक्ष्मी का विवाह 3 वर्ष पूर्व हमीरपुर जनपद के बिवांर थाना क्षेत्र के नेवादा गांव में हुआ था. शादी के बाद से ही लक्ष्मी के ससुराल वाले उसे दहेज के लिए प्रताड़ित करने लगे. जब ससुराल वालों का अत्याचार लक्ष्मी से बर्दास्त नही हुआ तो वह अपने माँ के घर आ गई और लगभग एक वर्ष तक अपने ससुराल नही गई. इस दौरान कई बार लक्ष्मी के ससुराल वालों ने उसे ले जाने का प्रयास किया लेकिन वह नहीं मानी.

इसके बाद लक्ष्मी के ससुराल वालों ने बड़े बुजुर्गों की पंचायत से गुहार लगाई. पंचायत के फैसले बाद लक्ष्मी अपने ससुराल चली गई. लेकिन ससुराल वालों ने फिर से उस पर अत्याचार शुरू कर दिया. एक दिन लक्ष्मी के ससुराल वालों ने सारी हदें पार करते हुए मारपीट की और जब लक्ष्मी बेहोश हो गयी तो उसे दो मंजिल की छत से नीचें फेंक दिया. इससे उसकी रीढ़ की हड्डी टूट गई. उसके बाद ससुराल वालों ने लक्ष्मी को उसके मायके में लाकर छोड़ दिया. इसके बाद जब जब लक्ष्मी के परिजनों ने पूरे मामले की जानकारी पुलिस को देने की बात कही तो ससुराल वालों ने लक्ष्मी का इलाज कराने की बात कही. लेकिन तीन महीने बीत जाने के बाद भी दहेज़ लोभियों ने कोई मदद नहीं की.

इस पूरे मामले में जब पुलिस महा निरीक्षक से जानकारी मांगी गई, तो उन्होंने बताया कि अभी तक मुझे इस घटना के बारे में कोई जानकारी नहीं थी. पुलिस महा निरीक्षक इस पूरे मामले की जानकारी लेकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने का आश्वाशन दिया है.

 

ये भी पढ़ें- मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने ग्रामीणों को बीमारियों से बचने के बताये उपाय

Related Articles