Dr. APJ Abdul Kalam की पुण्य तिथि पर याद करें उनके विचार, युवाओं को दिया मानवता का पैगाम

देश के 11वें राष्ट्रपति रहे डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम (Dr. APJ Abdul Kalam) करोड़ों भारतीयों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत हैं।  आज पूरा राष्ट्र उनका स्मरण और नमन कर रहा है।

लखनऊ: देश के 11वें राष्ट्रपति रहे डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम (Dr. APJ Abdul Kalam) करोड़ों भारतीयों के लिए प्रेरणा का स्त्रोत हैं।  आज पूरा राष्ट्र उनका स्मरण और नमन कर रहा है। भारत को मिसाइल के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने और देश को एक नई सोच नए स्वप्न देखने की प्रेरणा देने वाले कलाम को बच्चों से काफी प्रेम था।  डॉ. कलाम का युवाओं पर खासा गहरा प्रभाव था और राष्ट्रपति पद छोड़ने के बाद वह शिक्षा के क्षेत्र में काम करने लगे थे।

Dr. APJ Abdul Kalam के महान विचार

आज आपको उनके महान विचारों से अवगत कराते हैं, ताकि एक बार फिर आप उनसे नई प्रेरणा ले सकें और कोरोना काल की नकारात्मकता पर विजय प्राप्त कर नई चुनौतियों के लिए आगे बढ़ें। 1. 15 अक्टूबर 1931 को रामेश्वरम में जन्मे कलाम कहते थे कि महान सपने देखो और उन्हें पूरा करने में जुट जाओ, महान सपने जरूर पूरे होते हैं। सपने देखना है तो दिन में देखों रात में नहीं।

Dr. APJ Abdul Kalam
Dr. APJ Abdul Kalam

वे कहते थे कि आप अपने काम से प्रेम करो। अपने काम से प्रेम करने का मतलब राष्ट्र प्रेम है। कुछ चीजों को हम बदल नहीं सकते हैं, इसलिए उनको उस रुप में ही स्वीकार करना उचित होता है। इंतजार करने वाले को उतना ही मिलता है, जितना कोशिश करने वाले छोड़ देते हैं। कलाम के कमाल के विचार उनके कामों में भी दिखा। पोखरण में हुए दूसरे न्यूक्लियर टेस्ट में डॉ. कलाम ने अहम भूमिका निभाई थी।

2015 में दिया अब्दुल कलाम आइलैंड

देश के मिसाइल प्रोजेक्ट में बेहतरीन योगदान देने के चलते डॉ. कलाम को मिसाइल मैन की उपाधि दी गई। अग्नि और पृथ्वी मिसाइलों के विकास का श्रेय डॉ. कलाम को ही जाता है। डॉ. कलाम को सम्मान देने के लिए ओडिशा के तट पर मौजूद व्हीलर आइलैंड को साल 2015 में अब्दुल कलाम आइलैंड नाम दे दिया गया था। बता दें कि भारत की इंटीग्रेटेड टेस्ट रेंज मिसाइल टेस्टिंग इसी द्वीप पर होती है। पहले इस द्वीप का नाम अंग्रेज कमांडर लेफ्टिनेंट व्हीलर के नाम पर था।

यह भी पढ़ें: बबली गर्ल उर्फ़ Kriti Sanon का जन्मदिन आज, क्या रियल लाइफ में भी रहती हैं इतनी बिंदास और बेफ्रिक

यह भी पढ़ें: कोरोना संक्रमण कम हुआ है, खत्म नहीं! तीसरी लहर से बचने के लिए रखे 5 बातों का ध्यान

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और Youtube पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Related Articles