राज्य की पीपीपी पॉलिसी का ड्राफ्ट राजस्थान के मुख्य सचिव को सौंपा

राजस्थान के मुख्य सचिव राजीव स्वरूप को राज्य में लागू होने वाली पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप पॉलिसी का ड्राफ्ट मंगलवार को सौंपा गया।

जयपुर : राजस्थान के मुख्य सचिव राजीव स्वरूप को राज्य में लागू होने वाली पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप पॉलिसी का ड्राफ्ट मंगलवार को सौंपा गया। हरिश्चन्द्र माथुर लोक प्रशासन संस्थान के प्रबंध निदेशक संदीप वर्मा ने यह ड्राफ्ट मुख्य सचिव को दिया। स्वरूप ने कहा कि राज्य सरकार की मंशा है कि जन सेवाओं और योजनाओं की गुणवत्ता में किसी प्रकार की कमी नहीं हो ताकि आम जन को ज्यादा से ज्यादा लाभ मिल सके।

उन्होंने कहा किं पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप पॉलिसी के लागू होने से राज्य की जनकल्याणकारी परियोजनाओं की गुणवत्ता के स्तर को और भी बेहतर बनाया जा सकेगा। निजी क्षेत्र के सहयोग से योजनाओं में उच्च स्तर और नवीन क्षमताओं तथा कौशल का उपयोग कर उन्हें ज्यादा लाभकारी बनाया जा सकेगा।

ये भी पढ़े : घूस लेने के आरोपों में उत्तराखंड सीएम पर सीबीआई जांच के आदेश

पॉलिसी के माध्यम से पीपीपी परियोजनाओं

उन्होंने कहा कि इस पॉलिसी के माध्यम से पीपीपी परियोजनाओं की लगातार प्रभावी मॉनिटरिंग किया जाना सुनिश्चित किया गया है। उन्होंने कहा कि योजनाओं के पूरी होने तक ही नहीं बल्कि योजनाओं की क्रियान्विति के बाद भी उसका संचालन एवं प्रबंधन सुनिश्चित हो इसके प्रावधान इस पॉलिसी में किये गए हैं। उन्होंने कहा कि पॉलिसी के माध्यम से पीपीपी परियोजनाओं के निर्माण तथा संचालन में पूरी पारदर्शिता तथा जवाबदेही सुनिश्चित की गई है, जिससे विवादों की संभावनाएं भी कम से कम होंगी।

ये भी पढ़े : पाकिस्तान मदरसा विस्फोट में 8 की मौत, 110 घायल, पाक पीएम ने जताया दुःख

राजस्थान सरकार की पीपीपी पॉलिसी

उन्होंने बताया कि ग्रीन फील्ड और ब्राउन फील्ड सभी प्रकार की परियोजनाएं सही लागत और उचित समय पर पूरी हों तथा संसाधनों व धन का उचित उपयोग सुनिश्चित हो यह सरकार की प्राथमिकता है। संदीप वर्मा ने बताया कि केन्द्रीय पॉलिसी और राजस्थान सरकार की पीपीपी पॉलिसी 2008 के ड्राफ्ट तथा विभिन्न रिपोर्टों के विस्तृत अध्ययन के बाद इस पॉलिसी का ड्राफ्ट तैयार किया गया है। उन्होंने कहा कि राज्य के उच्च अधिकारियों, उद्योगपतियो से भी चर्चाएं कर उनकी अनुभवों और सुझावों के आधार पर इसका निर्माण किया गया है।

Related Articles

Back to top button