नए साल की शुरुआत में खत्म होगा ‘कोरोना का खेल’, शुरू हो गई ड्राई रन की प्रक्रिया!

2 जनवरी से सभी राज्य़ों और केंद्र शासित राज्यों में कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन किया जा रहा है।फिलहाल प्रदेश की राजधानी में तीन जगहों पर ड्राई रन चल रहा है।

लखनऊ: मार्च 2020 में दुनिया को झझकोर कर रख देने वाली बीमारी कोरोना ने दस्तक दी थी। हर तरफ हाय तौबा का माहौल बन चुका था। न जाने कितने लोगों ने इस बीमारी के चपेट में आकर देश को अलविदा कह दिया। सड़कों पर नंगे पांव, कोई पेट में बच्चा लिए तो कोई कांधे पर अपने परिवार की जिम्मेदारी उठाए बस चले जा रहा था अपने घर तक पहुंचने के लिए। लेकिन घर तक पहुंचने का ये सफर हर किसी का पुरा नहीं हो पाया। इस एक बीमारी ने पूरी दुनिया पर रोक लगा दी। कोई अपने बच्चों को देखने के लिए तरस गया तो किसी के सिर से मां-बाप का साया उठ गया। लेकिन इस त्रासदी के बाद भी देश चलता रहा।

नए साल की शुरुआत में खत्म होगा ‘कोरोना का खेल’, शुरू हो गई ड्राई रन की प्रक्रिया
कोरोना

देश में लॉकडाउन हुआ ट्रेन, बस , रिक्शा, दुकान , मॉल सबको बंद कर दिया गया। लोगों ने घर में दिया जलाया और थालियां भी पीटी लेकिन फिर भी कोरोना ने मुंह नहीं मोड़ा। सबकी आंखें सिर्फ उस वैक्सीन पर टिकी थी जिससे ये देश फिर से दोबारा से आजाद होकर जी सके। हालांकि 2020 के जाने के बाद 2021 में लोगों के बीच एक उम्मीद की किरणें नजर आती दिख रही हैं। कोरोना को मात देने के लिए वैक्सीन का निर्माण अब किया जा चुका है। जल्द ही लोगों के बीच इस वैक्सीन को लाया जाएगा। फिलहाल इस वैक्सीन का ड्राई रन किया जा रहा है।

 जानिए कैसी चल रही कोरोना वैक्सीन के ड्राई रन की तैयारी

केन्द्र सरकार ने बताया है कि 2 जनवरी से सभी राज्यों और केंद्र शासित राज्यों में कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन किया जाएगा। बता दें कि सभी प्रदेश की राजधानी में लगभग तीन जगहों पर ड्राई रन किया जाएगा। वहीं कुछ प्रदेशों ने ज़िलों को भी शामिल किया है जो मुश्किल इलाक़ों में स्थित हैं।

इसके लिए सरकार ने पूरे देश में कोविड वैक्सीन टीकाकरण के लिए सभी राज्यों और केंद्र प्रशासित राज्यों को पूरी तरह तैयार रहने के लिए कहा है। वहीं केंद्र सरकार का कहना है कि इस ड्राई रन  के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने प्रधान सचिवों, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन और राज्यों के स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंस की और तैयारियों का जायज़ा भी लिया है।

नए साल की शुरुआत में खत्म होगा ‘कोरोना का खेल’, शुरू हो गई ड्राई रन की प्रक्रिया
कोरोना

क्या है यह ड्राई रन ?

ड्राई रन को आप एक तरह से रिहर्सल की तरह मान सकते हैं। मतलब कि इसमें तैयारी की जाएगी कि जब असली वैक्सीन आएगी तो उसे किस तरह से लगाया जाएगा। किस तरह से इसकी तैयारी की जाएगी आदि। इन सभी चीजों का निरीक्षण करने के लिए ड्राई रन किया जाएगा। साथ ही इस दौरान यह भी देखा जाएगा कि वैक्सीन देने के दौरान और बाद में किस तरह की अड़चनें सामने आती है।

साथ ही यह भी देखा जाएगा कि 50 साल से ज्यादा उम्र वाले लोगों और उसके बाद पहले से दूसरी बीमारियों से जूझ रहे लोगों को यह वैक्सीन लगाई जानी है। इसके साथ-साथ ड्राई रन में डेटाबेस भी तैयार किया जा रहा है। इस दौरान लोगों का रजिस्ट्रेशन भी होगा। रजिस्ट्रेशन के बाद उन्हें मैसेज भेजा जाएगा और वैक्सीन लगाने की तारीखों के बारे में बताया जाएगा।  साथ ही सेंटर आदि की जानकारी भी दी जाएगी।

इसके लिए एक को-विन नाम का आईटी प्लेटफॉर्म भी तैयार किया जा रहा है। जिसके जरिए वैक्सीन लगाने का पूरा काम किया जाएगा। हालांकि अगर आप सोच रहे हैं कि इस ड्राई रन के दौरान लोगों को असली में इन्जेक्शन लगाया जा रहा है तो आप गलत है।  दरअसल इस ड्राई रन में वास्तविक यानी की असली वैक्सीन का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा। सिर्फ वैक्सीन लगाने के बाद जो प्रक्रिया होती हैं उनका परिक्षण किया जा रहा है। जैसे कि वैक्सीन लगाने के बाद मरीज को कितनी देर तक अस्पताल में रखना है आदि। वहीं सरकार की प्रेस रिलीज के मुताबिक, इस ड्राई रन में करीब 96,000 वैक्सीन देने वालों को ट्रेन किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: सरकार को जिम्मेदार ठहरा, किसान ने की खुदकुशी (Suicide)

यह भी पढ़ें: कोरोना : उज्जैन (Ujjain)  में 14 मरीज हुए संक्रमित, रिकवरी रेट में हुई बढ़ोत्तरी

Related Articles

Back to top button