दुबे ने नीतीश से कहा, ‘बिहार में शराबबंदी से भ्रष्टाचार को मिल रहा है बढ़ावा’

सांसद निशिकांत दुबे ने सीएम नीतीश से कहा, ‘शराब बंदी में कुछ संशोधन करें’

पटना: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने कहा ‘बिहार के मुख्यमंत्री जी से आग्रह है कि शराबबंदी में कुछ संशोधन करें, क्योंकि जिनको पीना या पिलाना है वे नेपाल, बंगाल, झारखंड, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ का रास्ता अपनाते हैं, इससे राजस्व की हानि, होटल उद्योग प्रभावित तथा पुलिस, एक्साइज भ्रष्टाचार को बढ़ावा देते हैं’।

राज्य में भ्रष्टाचार को बढ़ावा

भाजपा सांसद डॉ. निशिकांत दुबे ने नीतीश कुमार से ट्वीट कर बोला है, बिहार में लागू शराबबंदी में संशोधन किए जाने की मांग की है। निशिकांत दुबे का कहना है कि इससे राज्य में भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिल रहा है।

महिला मतदाता

शराब बंदी को नीतीश कुमार के मुख्य फैसलों में गिना जाता है। इसके कारण उन्हें राज्य की महिला मतदाताओं का साथ मिलता आया है। विधानसभा चुनाव में महिला मतदाताओं ने जदयू सहित एनडीए को जमकर वोट दिया। इसका एक मुख्य कारण शराबबंदी जैसे फैसले को बताया गया है। चुनावी माहौल में कई बार राज्य से शराब जब्त की गई। विपक्ष ने नीतीश के इस फैसले को फेल करार दिया था और इसे भ्रष्टाचार बढ़ने का कारण बताया था।

2015 में शराबबंदी का वादा

नीतीश कुमार ने पिछले चुनाव 2015 में शराबबंदी का वादा किया था और राज्य में 2016 में इसे लागू किया गया था। पिछले चार साल में शराबबंदी कानून के तहत चार लाख लोगों की गिरफ्तारी हुई है, जबकि राज्य के राजस्व को 4,000 करोड़ रुपये तक का घाटा हुआ है। विधानसभा चुनाव के दौरान यह मुद्दा बना रहा।

शराबबंदी कानून

कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में शराबबंदी कानून में संशोधन करने की बात कही थी। वहीं राजद नेताओं ने अपनी सरकार बनने पर फिर से शराब की बिक्री शुरू करने का वादा किया था।

यह भी पढ़े:शेयर बाजार में आया सुधार, हेल्थकेयर और बेसिम मटेरियल्स जैसे समूहों में हुयी लिवाली

यह भी पढ़े:देश में कोरोना जांच का औसत आंकड़ा 89 हजार के पार, ICMR ने जारी किए आंकड़े

Related Articles

Back to top button