डबलिन टी-20: इंग्लैंड सीरीज से पहले टीम इंडिया को ताकत परखने का आखिरी मौका

डबलिन। पहले मैच में एकतरफा जीत हासिल करने के बाद टीम इंडिया शुक्रवार को होने वाले दूसरे टी-20 मैच में आयरलैंड को मात देकर सीरीज जीत के साथ के इंग्लैंड के लिए रवाना होना चाहेगी। भारत ने बुधवार को खेले गए पहले मैच में आयरलैंड को 76 रनों से हरा दिया था। दोनों टीमें सीरीज के दूसरे और आखिरी मैच में दे विलेज मैदान पर आमने-सामने होंगी।

टीम इंडिया

पहल मैच में भारत को किसी भी तरह की परेशानी नहीं आई थी। रोहित शर्मा और शिखर धवन की सालमी जोड़ी ने उसे बड़ा स्कोर प्रदान किया जिसके बाद युजवेंद्रा चहल और कुलदीप यादव ने आयरलैंड के बल्लेबाजों को विकेट पर पैर जमाने का मौका नहीं दिया।

आयरलैंड पूरे मैच में भारत की बराबरी नहीं कर पाई और खेल के तीन क्षेत्रों में कमजोर साबित हुई।

रोहित और धवन ने आयरलैंड के गेंदबाजों की अच्छी खबर ली थी और पहले विकेट के लिए 160 रन जोड़े थे। इन दोनों के जाने के बाद हालांकि कोई और बल्लेबाज रन नहीं कर सका था उसका एक कारण यह भी था कि आखिरी ओवरों में बल्लेबाज तेजी से रन बनाने के प्रयास में विकेट खो बैठे थे। अंतिम ओवर में भारत ने तीन विकेट खोए थे।

भारत की बल्लेबाजी मजबूत है और इसलिए उसके लिए चिंता का विषय नहीं है। कप्तान विराट कोहली इस मैच में कुछ बदलाव भी कर सकते हैं।

वहीं गेंदबाजों में जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर कुमार ने कसी हुई गेंदबाजी की थी। बुमराह को विकेट भी मिला था, लेकिन भुवनेश्वर को सफलता नहीं मिली थी।

बीते कुछ महीनों में सीमित ओवरों में चहल और कुलदीप की जोड़ी भारत को मध्य के ओवरों में अच्छी सफलता दिलाती आई है। यह जोड़ी बल्लेबाजों को रनों के लिए भी तरसाती है तो विकेट भी निकालती है।

कुलदीप ने पिछले मैच में चार विकेट लिए थे वहीं चहल को तीन सफलताएं मिली थीं। दूसरे मैच में भी यह जोड़ी मेजबानों के लिए सिरदर्द साबित हो सकती है।

वहीं आयरलैंड को अपने खेल के स्तर को ऊपर उठाना होगा। गेंदबाजी और बल्लेबाजी के अलावा टीम की फील्डिंग भी बेहद खराब रही थी।

बल्लेबाजी में आयरलैंड के लिए जेम्स शेनन ही विकेट पर टिक पाए थे। उन्होंने तेज तर्रार 35 गेंदों में 60 रनों की पारी खेली थी। उनके अलावा कोई और बल्लेबाज दूसरे छोर पर खड़ा नहीं रह सका था। गेंदबाजी में पीटर चेस ने चार विकेट लिए थे।

आयरलैंड को अगर बराबरी करनी है तो उसे खेल के तीन क्षेत्रों में सुधार करना होगा।

Related Articles