स्टंट के दौरान युवक के मुंह में जा घुसा रेलिंग का नोकदार सरिया, हुआ आर-पार

0

लखनऊ। उत्तरप्रदेश के लखनऊ में स्टंट से मौत के आकड़े लगातार बढ़ते ही जा रहे है, लेकिन इसके बावजूद शहर में स्टंट करने वाले युवकों की संख्या में कोई कमी नहीं आ रही है। एक बार फिर से लखनऊ के गोमती नगर क्षेत्र में एक गंभीर मामला सामने आया है. घटना गोमती नगर विस्तार के जनेश्वर मिश्र पार्क के पास की है। जहां गुरूवार शाम  को स्टंट के दौरान बाइक पर  पीछे बैठा एक युवक चौराहे पर लगी रेलिंग पर जा गिरा।

रेलिंग की नोकदार शरिया उसकी दाड़ी को फाड़ते हुए मुंह के अंदर घुस गयी औऱ जीभ को चीरते मुंह से ऊपर निकल आयी काफी देर मशक्कत के बाद बहुत ही सावधानी से पतली आरी (ब्लेड) की मदद से सरिय को काटा गया। युवक को ट्रामा सेंटर में भर्ती करवाया गया है। उसकी हालत नाजुक बनी हुई है युवक के साथ बाइक पर बैठे दो अन्य लोग लोग भी हादसे में चोटिल हुए है।

चौकी इंचार्ज कौशलेंद्र सिंह के मुताबिक गुरूवार शाम करीब शाम 5.30 तीन युवक मोहम्मद शरीफ हुसैन और मोहम्मद कोनन जनेस्वर मिश्र पार्क के पास घूमने आए थे चौकी इंचार्ज बाइक करीब 100 कीमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चल रही थी। जनेश्वर मिश्र पार्क के गेट नं 2 के पास चौराहे पर स्टैंड के दौरान अचानक बाइक ब्रेक लगा दी गयी। इससे बाइक पर सबसे पीछे बैठा कोनन उछलकर  चौराहे की रेलिंग पर जा गिरा औऱ वहां लगी नोकदार सरिया उसकी ठुडी से मुंह के अंदर घुस गयी।

सरिया जीभ को भी भेद दिया उसकी हालत देखकर प्रत्यक्ष दर्शी सिहर उठे। सूचना पर पहंचे चौकी इंचार्ज कौशलेंद्र सिंह तुरंत मौके पर पहुंचे औऱ कोनन  को संभाला उन्होंने सिपाहियो की मदद से टाइल्स का चट्टा लगाकर उसे बहुत ही सावधानी से बैठाया।

इस दौरान कोनन को पकड़े रहा ताकि वह हिलने न पाए इसके बाद उसके मुंह में घुसा सरिया काटा गया इसी बीच उसके दोनों साथियों केसर बाग स्थित नजरबाग मुहम्मद शरीफ औऱ मंडल हाउस के पास रहने वाले हसन को लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया। पुलिस ने बताया कि शरीफ ग्रैफिक डिजाइन का काम सीख रहा है। वहां हसन जूते चप्पल की दुकान चलाता है।

चौकी इंचार्ज कौशलेंद्र सिंह ने नजदीक के मार्केट से सरिया काटने वाले को मदद के लिए बुलाया इसी बीच पार्क के पास घूम रहे दो डॉक्टर भी वहां पहुंच गए। डॉक्टरों ने सलाह दी कि कोनन की गर्दन औऱ सरिया के बीच कपड़ा लगा दिया जाए, जिससे की ब्लड से सरिया काटते समय गर्दन पर चोट न आए करीब 25 मिनट तक बहुत ही सावधानी से सरिया को काटा गया। इसके बाद चौकी इंचार्ज ने केसरबाग निवासी कोनन को 108 एंबुलेंस से लोहिया अस्पताल भेजा। जहां उसकी हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने उसे ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया।

ट्रॉमा सेंटर में कोनन के ऑपरेशन की आनन फानन में व्यवस्था कि गयी। छुट्टी चल रहे प्रो. समीर मिश्रा को ऑपरेशन के लिए बिला लिया गया इसके अलावा असिस्टेंट प्रो. यदवेंद्र धीर एस आर यूसी जे आर डॉक्टर देंवांशु एनीइस्थेसिया के डॉक्टर अंशू सिंह डॉक्टर ज्योति रावत औऱ डॉक्टर चौधरी की टीम बनाकर ऑपरेशन किया गया। दो घंटे तक चले ऑपरेशन के बाद डॉक्टरों को सरिया निकालने में सफलता मिली। प्रो. ने बताया कि 19 सेमी.की सरिया को ऑपरेशन के बाद निकाल लिया गया है, उसकी हालत खतरे से बाहर है। चार से पांच दिनों कोनन बोलने लगेगा।

loading...
शेयर करें