जम्मू-कश्मीर में उत्साह के साथ मनाई गई ईदे मिलाद उल-नबी

जम्मू-कश्मीर में शुक्रवार को पैगंबर मोहम्मद की जयंती ईदे मिलाद उल-नबी पूरे उत्साह और उल्लास के साथ मनाई गई। कोरोना महामारी को देखते हुए प्रशासन के दिशा निर्देशों के अनुसार

श्रीनगर : जम्मू-कश्मीर में शुक्रवार को पैगंबर मोहम्मद की जयंती ईदे मिलाद उल-नबी पूरे उत्साह और उल्लास के साथ मनाई गई। कोरोना महामारी को देखते हुए प्रशासन के दिशा निर्देशों के अनुसार कारण रात विशेष प्रार्थना का आयोजन नहीं किया जाएगा। श्रद्धालुओं ने मस्जिदों में सुबह और दोपहर में नमाज अदा की। सर्द हवाओं के बावजूद लोग प्रसिद्ध डल झील के तट पर स्थित सार-ए-शरीफ हजरतबल में ‘फज्र’सुबह की प्रार्थना में शामिल हुए। जहां लोगों ने पैगंबर मुहम्मद के पवित्र अवशेष का ‘दीदार’ किया।

ये भी पढ़े : यूपी में कोरोना के 24,431 एक्टिव मामले, रिकवरी रेट बढ़कर 93.45 प्रतिशत

हजरतबल और जेह साहिब सौरा, शाहरी कैलाहपोरा और पिंजौर सहित अन्य मस्जिदों में महिलाओं और बच्चों सहित हजारों श्रद्धालुओं ने नमाज अदा की। हालाँकि श्रीनगर और अन्य स्थानों पर कुछ मस्जिदों में रात की नमाज़ अदा की गई। श्रीनगर, पुलवामा और अन्य स्थानों पर मिलाद जुलूस निकाले गए। इस अवसर पर लोगों ने एक-दूसरे को बधाई दी। गैर-मुस्लिम भी मुस्लिम भाइयों का बधाई देते देखे गए।

Related Articles