अवैध रूप से रहने वाले सैकड़ों प्रवासियों की मदद करने के आरोप में भारतीय मूल के आठ लोग गिरफ्तारी

0

वॉशिंगटनः अमेरिका में एक बड़े वीजा रैकेट का भंडाफोड़ होने का मामला सामने आने के बाद से भारत समेत  अन्य देशों के लोगों को भी निर्वासन का सामना करना पड़ रहा है। अमेरिकी अधिकारियों ने देश में ‘पे टू स्टे’ वीजा के माध्यम से लोगों को बेवकूफ बना रहे आठ लोगों को गिरफ्तार किया है। यह लोग इस वीजा के जरिए अवैध रूप से रहने वाले सैकड़ों प्रवासियों की मदद कर रहे थे।

आईसीई ने कार्रवाई करते हुए आठ विदेशियों को हिरासत में लिया है। ये सभी लोग या तो भारतीय नागरिक हैं या भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक हैं। सभी 30 वर्ष के बताए जा रहे है। गिरफ्तार किए गए लोगों कि उनकी पहचान भारत काकीरेड्डी, सुरेश कंडाला, पाणीदीप कर्नाटी, प्रेम रामपीसा, संतोष सामा, अविनाश थक्कलापल्ली, अश्वंत नुणे और नवीन प्रतिपति के रूप में हुई है। लेकिन आईसीई ने इनकी नागरिकता का खुलासा नहीं किया है।

इन लोगों के ऊपर कम से कम 600 विदेशी नागरिकों को रहने में मदद करने का आरोप है। इन संदिग्धों ने सैकड़ों विदेशी नागरिकों को छात्र के रूप में दिखाकर उन्हें गैरकानूनी तरीके से अमेरिका में रहने में मदद की, विशेष एजेंट चार्ज फ्रांसिस का यह बयान है। विशेष एजेंट ने बताया, इन लोगों ने अमेरिका आव्रजन कानूनों का घोर उल्लंघन किया है।

 

loading...
शेयर करें