बुजुर्ग की हत्या, दुबई में बेटे ने कॉल की बात तब हुआ मौत का खुलासा

नई दिल्ली:दिल्ली के लक्ष्मीनगर इलाके में एक 80 साल की एक बुजुर्ग की घर में घुसकर हत्या कर दी गई है. हत्यारों का फिलहाल कुछ पता नहीं चला है, लेकिन आशंका जताई जा रही है कि हत्या के पीछे लूट का मकसद था, क्योंकि घर के अंदर रखी अलमारी और बेड सभी खुले हुए हैं और सारा सामान बिखरा हुआ है. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सुरक्षित रखवा दिया है. साथ ही मामले की जांच कर रही है. बुजुर्ग का नाम कांति प्रसाद अग्रवाल था. आशंका है कि उनकी हत्या गला घोंट कर की गई है.

कैसे हुआ वारदात का खुलासा
पुलिस के अनुसार, आज सुबह सूचना मिली कि F-37 लक्ष्मी नगर में एक बुजुर्ग की हत्या कर दी गई है. पुलिस मौके पर पहुंची तो देखा कि बुजुर्ग का शव घर में ही बने ऑफिस के अंदर पड़ा हुआ था. ऑफिस और घर की सारी अलमारियां खुली हुई थी. सामान इधर-उधर बिखरा हुआ था. मृतक की पहचान कांति प्रसाद अग्रवाल के रूप में की गई, जो अपने घर में ही आईएफबीआई का सर्विस सेंटर चलाते थे.

आज सुबह जब उनका स्टाफ ऑफिस पहुंचा और अंदर जाकर देखा तो इस वारदात का खुलासा हुआ. पुलिस का कहना है कि प्रारंभिक जांच में यह पता चला है कि हत्या की वजह लूट की वारदात है और यह संभव है कि लुटेरों ने घर में फ्रेंडली एंट्री ली है. यह भी आशंका जताई जा रही है कि वारदात को अंजाम देने वालों में से कोई जानकार भी हो सकता है क्योंकि फ्रेंडली एंट्री ली गई है. फिलहाल गली में लगे सीसीटीवी कैमरा की फुटेज बंगाली जा रही है, ताकि हत्यारों का कोई सुराग हाथ लग सके.

बेटे ने दुबई से फोन किया तो हुआ खुलासा
पुलिस का कहना है कि जो स्टाफ सबसे पहले ऑफिस पहुंचा था, उससे हुई पूछताछ में पता चला है कि कांति प्रसाद अग्रवाल के तीन बच्चे हैं. एक बेटा है जो दुबई में रहता है, दो बेटियां हैं, जिनकी शादी हो चुकी है. एक बेटी गाजियाबाद के इंदिरापुरम में रहती हैं और दूसरी बेटी बंगलुरु में रहती है. कांति प्रसाद का बेटा रविवार से ही अपने पिता को कॉल कर रहा था.

जब उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया तो आज सुबह उसने ऑफिस के स्टाफ को फोन करके कहा कि पिता जी फोन नहीं उठा रहे हैं. एक बार ऑफिस जाकर चेक करो. जब स्टाफ ऑफिस पहुंचा तो उसने देखा की कांति प्रसाद की हत्या हो चुकी है. जिसके बाद उसने पुलिस को सूचना दी और कांति प्रसाद के बेटे को भी इसकी जानकारी दी. पुलिस का कहना है कि इंदिरापुरम में रहने वाली उनकी बेटी दिल्ली पहुंच चुकी है.अब यह पता लगाया जा रहा है कि उनके ऑफिस और घर में कितना कैश ज्वेलरी आदि रखा हुआ था, ताकि यह पता लगाया जा सके कि कितना लूटपाट किया गया है.

 

पुलिस का कहना है कि कांति प्रसाद के मोबाइल फोन की कॉल डिटेल वेरीफाई की जा रही है. इसके अलावा उनके ऑफिस स्टाफ की भी कॉल डिटेल आदि वेरीफाई की जाएगी. साथ ही यह भी देखा जाएगा कि हाल-फिलहाल में उनके घर या ऑफिस में कौन-कौन आया था. कहीं कोई ऐसा तो नहीं है जो कुछ दिनों पहले ही कांति प्रसाद के ऑफिस या घर आया हो और उसी ने इस वारदात को अंजाम दिया हो, या फिर कोई पूर्व परिचित तो नहीं जो इस वारदात को अंजाम देने के लिए काफी पहले से कोई साजिश रच रहा हो.

Related Articles