बुजुर्ग महिला ने जिलाधिकारी से लगाई गुहार, साहब अभी मैं जिंदा हूं…

रामपुर: उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले में एक बुजुर्ग महिला को समाज कल्याण अधिकारी ने मृत कागज बनाकर उसकी पेंशन रोक दी है। इस मामले पर महिला ने जिलाधिकारी (DM) से गुहार लगाई है। उसने कहा है कि साहब में मैं अभी जिंदा हूं, मेरी पेंशन मुझे दिलवा दीजिए। इसके आगे उसने कहा है कि मेरे नाम का मृत्यु प्रमाण पत्र बनाकर मेरी पेंशन रोक दी गई है जबकि अभी मैं जिन्दा हूं। इस मामले को संज्ञा में लेते हुए डीएम (DM) ने मामले की जांच करने के आदेश दिए हैं साथ ही समाज कल्याण अधिकारी को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया है।

जानकारी के मुताबिक, तहसील मिलक के जनुनागर गांव में एक 55 वर्षीय चंद्रावती को समाज कल्याण अधिकारी ने कागजों में मृत दिखाकर दो सालों से उसकी पेंशन रोक दी है। बिना पेंशन की जी रही महिला दर-दर की ठोकर खा रही है और थक-हारकर पीड़ित बुजुर्ग महिला ने जिलाधिकारी से गुहार लगाई। इस मामले को संज्ञान में लेते हुए जिलाधिकारी ने जांच कराई तो जांच में यह आरोप स्पष्ट पाया गया कि जीवित महिला को कागजों में मृत दिखाया गया है। इस खेल से नाराज डीएम ने समाज कल्याण अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

ये भी पढ़ें : ऑनलाइन ठगी का फैला मकड़जाल, शिकार हुई CM केजरीवाल की बेटी

एक्शन में रामपुर जिलाधिकारी

रामपुर के जिलाधिकारी आंजनेय कुमार सिंह ने बताया कि शिकायत मिलने के बाद जब जांच कराई गई तो पता चला कि महिला का नाम वृद्धा पेंंशन से गायब है। सचिव ने रिपोर्ट लगाई थी कि यह महिला जनुनागर में नहीं, बल्कि अपने रिश्तेदार के यहां रहती है। इसके आधार पर समाज कल्याण अधिकारी ने महिला के पेंशन को रोक दिया। इसके बाद डीएम ने कहा यह सिर्फ एक मामला नहीं इसके अलावा 30-40 मामले और सामने आए हैं, जिसमें सीडीओ जांच कर रही हैं।

ये भी पढ़ें : ‘Arshi khan’ ने घर से बेघर होने पर लिखा नोट, और बताया अपना मकसद

Related Articles

Back to top button