अब हर उम्मीदवार को जनता के सामने रखना होगा ‘कच्चा-चिट्ठा’, चुनाव आयोग ने दिया निर्देश

विधानसभा चुनाव के मद्देनजर इलेक्शन की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के मद्देनजर इलेक्शन की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं. इसी को लेकर तैयारियों का जायजा लेने मुख्य निर्वाचन आयुक्त यूपी आए हैं. लखनऊ में चीफ इलेक्टोरल कमिश्नर सुशील चंद्रा ने प्रेस वार्ता करते हुए जानकारी दी है कि इस बार राजनीतिक दल अगर आपराधिक पृष्ठभूमि वाले लोगों को अपना उम्मीदवार चुनते हैं तो उन्हें न्यूज पेपर और टीवी चैनलों कर विज्ञापन देकर ऐसे उम्मीदवारों की पूरी जानकारी सार्वजनिक करनी होगी. इतना ही नहीं, कैंडिडेट को खुद भी अपना पूरा चिट्ठा जनता के सामने रखना होगा.

पुलिस प्रशासन को सख्त निर्देश

मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने प्रेस कांफ्रेंस कर आगामी चुनाव को लेकर कई बड़ी बातें जनता के सामने रखीं. उन्होंने बताया कि सभी पार्टियों का एकमत है कि चुनाव तय समय पर ही किए जाएं. वहीं, कोरोनावायरस के डर को देखते हुए पुलिस प्रशासन को भी सख्त रहने के निर्देश दिए गए हैं.

जनता है सर्वोपरि

उम्मीदवारों को अपनी जनता को पूरी बात बतानी होगी कि उनके खिलाफ कहां कितने केस दर्ज हैं और मामला क्या है. वहीं, जिस पार्टी से वह चुने जा रहे हैं, उस पार्टी को भी साफ तौर पर बताना होगा कि आपराधिक पृष्ठभूमि वाले कैंडिडेट को क्यों चुना गया है.

यह भी पढ़ें- धनकुबेर कांड पर बड़ी खबर, पीयूष के बेटों को DGGI ने छोड़ा

(Puridunia हिन्दी, अंग्रेज़ी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)…

 

Related Articles