मायावती और आदित्यनाथ के बयान पर चुनाव आयोग सख्त

 चुनाव आयोग ने भेजा नोटिस

लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार के दौरान कई बार नेताओं की जुबान मर्यादा की सीमा लांघ रही है| चुनाव आयोग ने कई बार आचार संहिता के पालन का निर्देश दिया है|गुरुवार को आयोग ने उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ओर बीएसपी सुप्रीमों को उनके बयानो पर नोटिस भेज कर 24 घंटे के अन्दर स्पष्टी करने को कहा है। दोनों नेताओं के बयानों पर आयोग ने संज्ञान भी लिया है|चुनाव  आयोग ने  मायावती को सेक्शन 123(3) और  पीपुल एक्ट 1951 के तेहत नोटिस भेजा है और बता दें योगी आदित्यनाथ को आयोग नें यह दूसरी बार नोटिस भेजा है|इससे पहले भी आयोग ने उन्हे मोदी जी के सेना वाले आयोग पर नोटिस भेजा था|

क्या थे नेताओं के बयान?

मेरठ में  9 अप्रैल को सीएम योगी आदित्यनाथ नें चुनाव प्रचार के दौरान कहा था,’एसपी-बीएसपी को अली में अगर यकीन है तो हमें भी बजरंगबली में यकीन है,और दूसरी तरफ मायावती ने भी मुस्लिमों से एसपी-बीएसपी गठबंधन के पक्ष में वोट देने की अपील की थी|इन दोनों के बयानों को चुनाव आयोग ने इसको स्पष्ट करने को कहा है|और यह भी कहा है की  धार्मिक आधार पर मतदान की मांग करना कानून के खिलाफ है|इसके लिए अलग एक्ट भी बानाए गए है|

 

Related Articles