चुनाव आयोग ने डीजीपी का किया तबादला, IPS पी० नीरज नयन को मिली जिम्मेदारी

कोलकाता: पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले केंद्रीय चुनाव आयोग ने आज मंगलवार को बड़ा कदम उठाया है। चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल के पुलिस महानिदेशक (DGP) वीरेंद्र का तबादला कर दिया है, अब उनकी जगह 1987 बैच के वरिष्ठ आइपीएस अधिकारी पी नीरज नयन पांडेय को नया डीजीपी (New DGP) नियुक्त किया है। चुनाव आयोग ने राज्य सरकार को निर्देश दिया है कि तत्काल 1985 बैच के वरिष्ठ आइपीएस वीरेंद्र को डीजीपी पद से कार्यमुक्त कर पी० नीरज नयन पांडेय को पदभार सौंपे। साथ ही ये भी कहा है कि वीरेंद्र को चुनावों से जुड़े किसी भी प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष कार्य की जिम्मेदारी नहीं दी जाएगी।

नए डीजीपी को दिया निर्देश

चुनाव आयोग ने ये भी कहा है कि राज्य सरकार इस संबंध में बुधवार सुबह 10 बजे तक आयोग को सूचित करें। साथ ही ये भी कहा है कि चुनाव प्रक्रिया समाप्त होने तक नए डीजीपी वीरेंद्र ऐसे किसी पद पर तबादला नहीं करेंगे जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से चुनाव कार्य से जुड़े हों। राज्य की चुनावी तैयारियों के हालातो की समीक्षा के बाद आयोग ने पी नीरज नयन को राज्य के डायरेक्टर जनरल और आईजीपी वीरेंद्र की जगह पर तत्काल प्रभाव से तैनात किया जाता है।

ये भी पढ़ें : एक्टर रणबीर कपूर (Ranbir kapoor) के बाद ये फिल्मकार भी कोरोना पॉजिटिव

हटाए जाने की वजह!

सूत्रों के मुताबिक, विपक्षी दलों ने वीरेंद्र के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत की थीं। विपक्षों दलों ने वीरेंद्र पर पक्षपात का आरोप लगाते हुए कहा था कि वे इस चुनाव में तृणमूल कांग्रेस को मदद पहुंचा सकते हैं। आपको बता दें कि भाजपा पहले से ही वीरेंद्र पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का करीबी होने का आरोप लगा रही थी। उनका कहना है कि ममता के निर्देश पर वो काम कर सकते हैं। दूसरी तरफ राज्य के राज्यपाल जगदीप धनखड़ भी डीजीपी वीरेंद्र के खिलाफ लगातार हमला बोलते रहे हैं। राज्यपाल का कहना था कि एनआइए दिल्ली से आकर आतंकियों को गिरफ्तार कर ले जाती है लेकिन राज्य पुलिस को कोई जानकारी नहीं थी।

ये भी पढ़ें : 6 राज्यों में फिर बढ़ा कोरोना का तेजी से ग्राफ, जानें संक्रमण का आंकड़ा

Related Articles