चौथे चरण की 71 सीटों पर थमा चुनाव प्रचार, 29 अप्रैल को होगा कई दिग्‍गजों की किस्‍मत का फैसला

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव के चौथे चरण की सीटों के लिए शनिवार शाम प्रचार का शोर थम गया. प्रचार के आखिरी दिन भी तमाम राजनीतिक दलों के दिग्गज नेताओं ने मतदाताओं को लुभाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी. इस चरण में नौ राज्‍यों के 71 निर्वाचन क्षेत्रों में सोमवार को वोट डाले जाएंगे. जिसमे बिहार में पांच, झारखण्‍ड में तीन, मध्‍यप्रदेश में छह, महाराष्‍ट्र में 17, ओडि़सा में 6, राजस्‍थान और उत्‍तरप्रदेश में 13-13 और पश्चिम बंगाल में 8 निर्वाचन क्षेत्रों में सोमवार को मतदान होगा. जम्‍मू कश्‍मीर के कुलगाम जिले की अनंतनाग सीट पर भी इसी चरण में मतदान होगा.

चुनाव आयोग के मुताबिक 9 राज्यों में 71 लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों में 12 करोड़ 79 लाख से अधिक मतदाता है. चौथे चरण में कई दिग्गजों सहित कुल 945 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला ईवीएम मशीन में कैद होगा. आयोग ने मतदान सुचारू रूप से संपन्न कराने के लिए 1 लाख 40 हजार से अधिक मतदान केंद्र बनाए है और साथ ही सुरक्षा के लिहाज से राज्य पुलिस बल के साथ ही अति संवेदनशील बूथों पर केंद्रीय सुरक्षा बल को तैनात किया जाएगा.

जमकर हुआ चुनाव प्रचार-

चुनाव प्रचार के आखिरी दिन भारतीय जनता पार्टी के वरिष्‍ठ नेता और प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने उत्‍तर प्रदेश के कन्‍नौज, हरदोई और सीतापुर में रैलियां की. इसके अलावा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शाहजहांपुर, बहराइच और बाराबंकी में चुनाव प्रचार किया. वहीं कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उन्नाव और बाराबंकी में हुंकार भरा. जबकि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी विभिन्न स्थानों पर जनसभाएं की. उधर, समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव और उनकी पत्नी डिंपल यादव आज कन्नौज निर्वाचन क्षेत्र में रोड शो किया.

इन दिग्‍गजों की किस्‍मत दांव पर-

चौथे चरण में बिहार की बेगूसराय सीट सबसे अहम समझी जा रही है. यहां केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता गिरिराज सिंह मैदान में हैं. उन्हें टक्कर देने के लिए यहां से जेएनयू के पूर्व छात्र नेता कन्हैया कुमार चुनाव लड़ रहे है. इसके अलावा इस सीट पर आरजेडी के तनवीर हसन भी मैदान में है. चौथे चरण के वीआईपी उम्मीदवारों में एमपी के सीएम कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ का भी नाम शामिल है.

इसके अलावा आरजेडी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री अब्दुल बारी सिद्दिकी, बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय, राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा, लोक जनशक्ति पार्टी के रामचंद्र पासवान, बिहार के मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह भी चुनावी रण में है.

Related Articles