तिब्बत में भारत बार्डर के पास चीन तैनात करेगा इलेक्ट्रोमैग्नेट रॉकेट!

नई दिल्ली: भारत का पड़ोसी देश चीन तेजी से अपनी सीमाओं के इर्द-गिर्द सैन्य ताकत बढ़ा रहा है। इसके साथ ही वह भारत से सटे सभी इलाकों में आधुनिक मशीनों औऱ रॉकेट को भी तैनात कर रहा है। इसी क्रम में आगे बढ़ते हुए अब चीन की तिब्बत में भारतीय सीमा पर इलेक्ट्रोमैग्नेटिक केटापुलिस रॉकेट (electromagnetic catapult rocket) तैनात करने की खबर आ रही है। जोकि भारत के लिए चिंता का विषय बन सकती है।

चीनी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन जल्द ही तिब्बत क्षेत्र में भारत बॉर्डर के पास इस आधुनिक रॉकेट के तैनात कर सकता है। यह रॉकेट कम ऑक्सीज़न, कम विजिबिलटी वाली जगहों में भी मार करने में सक्षम मानी जाती है और अपने प्रतिद्वंदी की मुश्किलें बढ़ाने का माद्दा रखती है। इन सभी खासियतों के बावजूद ये रॉकेट कम बजट और अधिक क्षमता वाला है।

चीनी रिसर्चर हान हुनली के अनुसार, पिछले कुछ समय में पश्चिमी सीमा क्षेत्र में जिस तरह की घटनाएं हुई हैं। उन्होंने ऐसा करने को मजबूर कर दिया है। इन घटनाओं में डोकलाम विवाद भी शामिल है। चीनी रक्षा विशेषज्ञों की मानें तो दुर्गम पहाड़ी इलाके और ऑक्सीजन की कमी के कारण कई हथियारों को इस्तेमाल करने में मुश्किलें आती थीं लेकिन ये नया रॉकेट ऐसी सुविधाओं से लैस है जिसे इन समस्याओं से निपटा जा सकता है।

इलेक्ट्रोमैग्नेटिक केटापुलिस रॉकेट की मदद से निशाना बिल्कुल सटीक लगेगा। बताया जा रहा है कि इसके लिए सैनिकों को दूर पहाड़ पार कर जाने की जरूरत नहीं होगी, क्योंकि ये जिस जगह स्थापित होगा, वहां से ही दुश्मनों पर प्रहार कर सकता है। इस रॉकेट को चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की रॉकेट फोर्स को सौंपा जाएगा।

चीनी रक्षा विशेषज्ञों का मानना है कि पश्चिम क्षेत्र में भारत की तेजी से बढ़ती सैन्य ताकत ही चीन के लिए चिंता का विषय है। चीन को लगता है कि भारत की सेना ज्यादा प्रोफेशनल और युद्ध लड़ने की क्षमता रखने वाली है। यही कारण है कि इस फोर्स को लगातार मजबूती दी जा रही है। रक्षा क्षेत्र के विशेषज्ञों की माने तो डोकलाम विवाद के बाद से चीन काफी चौकन्ना हो गया है। वह अब कोई भूल नहीं करना चाहता है। इसलिए इस जगह पर अपनी मुस्तैदी बढ़ा रहा है।

Related Articles