दो दिन की हड़ताल पर 10 लाख बैंक कर्मचारी, सभी बैंक‍िंग सेवाओं पर असर

आगरा। राष्ट्रीय बैंको में वेतन की पुनर्रीक्षण को लेकर बातचीत विफल होने के बाद बैंक यूनियनों ने 30 और 31 मई को देशव्यापी हड़ताल का ऐलान किया है। यानि आज 10 लाख से ज्यादा कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे। इस हड़ताल की वजह से बैंकिग व्यवस्था पूरी तरह ठप रहेगी।

हड़ताल

इस हड़ताल की वजह से आम लोगों के साथ-साथ करोड़ों सरकारी कर्मचारियों के साथ साथ निजी क्षेत्र में काम करने वालों करोड़ों लोगों पर असर पड़ने वाला है क्योंकि महीने के आखिरी दिन सैलरी ट्रांसफर का होता है।

बैंक यूनियन के मुताबिक, आईबीए प्रतिनिधियों से वेतन पुनरीक्षण के मुद्दे पर हो रही बातचीत विफल हो जाने के बड़ा हमने ये फैसला लिया है। पिछले एक साल में विचार विमर्श के कई दौर के बाद भी आईबीए कोई भी प्रस्ताव आगे करने के लिए नहीं आई।

गत पांच मई को आईबीए ने बताया कि बैंको की वितीय स्थिति ठीक नहीं जिसकी वजह से वेतन में सिर्फ दो फीसदी का ही इजाफा हो सकता है। उन्होंने सभी अधिकारियों के वेतन पुनर्रीक्षण पर बातचीत करने से इनकार कर दिया। यूनियन इस प्रस्ताव से खुश नहीं हैं इसलिए दो दिवसीय देशव्यापी हड़ताल का ऐलान किया है।

वहीँ इस हड़ताल के नोटिस के बाद सोमवार की वार्ता भी फेल हो गई। इसके बाद अब 30 और 31 मई को बैंक अधिकारी हड़ताल पर रहेंगे। भारतीय स्टेट बैंक समेत अन्य कई बैंकों ने कहा है कि अगर कर्मचारियों की ये हड़ताल होती है, तो इसकी वजह से उनकी बैंकिंग सेवाएँ बाधित होंगी।

Related Articles