उर्जा मंत्री का नया फरमान, बिजली के मीटर को मोबाइल फोन की तरह करना होगा रिचार्ज

नई दिल्ली। केंद्रीय ऊर्जा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) आर. के. सिंह ने गुरुवार को कहा कि भारत में बिजली के सभी मीटर अगले तीन साल में स्मार्ट प्रिपेड मीटर बन जाएंगे। मीटर विनिर्माताओं की एक बैठक को संबोधित करते हुए ऊर्जा मंत्री ने उन्हें स्मार्ट प्रिपेड मीटर बनाने की सलाह दी और कहा कि आने वाले वर्षो में स्मार्ट प्रिपेड मीटर की मांग में इजाफा होने वाला है।

bijli

ऊर्जा मंत्रालय की एक विज्ञप्ति में सिंह के उस बयान का जिक्र किया गया है जिसमें उन्होंने कहा, अगले तीन साल में स्मार्ट मीटर लगाए जाएंगे और आपके घरों में बिल आना गुजरे जमाने की बात हो जाएगी। इसलिए स्मार्ट मीटर बनाना और उनकी कीमतें कम करना वक्त की जरूरत है।

उन्होंने मंत्रालय के अधिकारियों को भी एक निश्चित तारीख के बाद स्मार्ट मीटर को अनिवार्य करने की सलाह दी। मंत्री ने कहा,  इससे बिजली के क्षेत्र में क्रांति आएगी क्योंकि इससे सकल तकनीकी व व्यावसायिक घाटा कम होगा और वितरण कंपनियों की सेहत में सुधार होगा। साथ ही, ऊर्जा संरक्षण को प्रोत्साहन मिलेगा और बिलों का भुगतान आसान होगा। मंत्रालय के अनुसार, स्मार्ट मीटर से कौशल प्राप्त युवाओं को रोजगार मिलेगा।

बैठक में भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) के प्रमाणपत्र, आरएफ/जीपीआरएस की अनुकूलता और मौजूदा डिजिटल अवसंरचना के साथ तालमेल जैसे स्मार्ट मीटर के विविध पहलुओं पर चर्चा की गई।

ऊर्जा सचिव ए. के. भल्ला, अतिरिक्त सचिव संजीव नंदन सहाय और संयुक्त सचिव अरुण कुमार वर्मा समेत कई अधिकारी बैठक में मौजूद थे।

Related Articles