इंग्लैंड के तीन खिलाडियों पर मंडराया मैच फिक्सिंग का साया, ICC ने दिए जांच के आदेश

नई दिल्ली। अल जजीरा न्यूज़ चैनल के डाक्यूमेंट्री ‘क्रिकेट के मैच फ़िक्सर्स’ के टेलीकास्ट करने के बाद से क्रिकेट गलियारों में हलचल पैदा हो गई। अभी ताजा मामले में इंग्लैंड के तीन खिलाडियों पर मैच फिक्सिंग का साया मंडराने लगा है।

दरअसल टीम इंडिया और इंग्लैंड के बीच दिसम्बर 2016 में चेन्नई में हुए टेस्ट मैच को फिक्स होने का दावा किया गया है। डाक्यूमेंट्री मूवी में 17 महीने पहले हुए टेस्ट मैच के एक 10 ओवर के दौरान इंग्लैंड के तीन खिलाड़ियों पर मैच फ़िक्स करने का आरोप लगाया गया है। हालंकि क़ानूनी उलझन की वजह ये नहीं बताया गया कि ये कौन से दस ओवर थे।

दूसरी तरफ इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने भी इन आरोपों का खंडन करते हुए इससे बेबुनियाद बताया है। वहीँ ICC ने इस पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच के आदेश दिए है। अगर वाकई में खिलाडियों को इस मामले का दोषी पाया गया तो उनके खिलाफ सख्त कार्यवाई की जाएगी।

अल जजीरा के डाक्यूमेंट्री में इंग्लैंड के अलावा ऑस्ट्रेलिया के दो खिलाड़ियों पर भी भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए है।

फ़िल्म में दावा किया गया है कि पहले से जानकारी रखने वाला और पैसा लगाने वाला धनी व्यक्ति प्रति मैच लगभग 90 करोड़ रुपये तक कमा सकता है जबकि इसमें मदद करने वाले खिलाड़ियों की छह अंकों में कमाई हो सकती है।

प्रोग्राम के अनुसार इंग्लैंड के बल्लेबाज़ सटोरियों द्वारा तय किए गए रन से कम रन बनाने पर राज़ी हो गए थे। उन 10 ओवरों में से अंतिम ओवर को मंदा कहा जाता है यानी इस ओवर में दो से ज़्यादा रन नही बनते हैं।

Related Articles