ताजमहल को प्रदूषण से बचाने के पर्यावरण कार्यकर्ताओं ने कसी कमर, निकाला जुलूस

आगरा| प्यार के प्रतीक के रूप में पूरी दुनिया में विख्यात ताजमहल को प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए पर्यावरण कार्यकर्ताओं ने कमर कस ली है। उन्होंने रविवार को यमुना नदी के किनारे पोस्टरों व बैनर के साथ जुलूस निकाला। पर्यावरण कार्यकर्ताओं ने यह जुलूस तब निकाला जब ताजमहल को प्रदूषण से होने वाले खतरा उजागर हुआ है।

जुलूस निकालने वाले पर्यावरण कार्यकर्ताओं में से एक देवाशीष भट्टाचार्य ने कहा कि इस गर्म मौसम में ताज को लगातार नुकसान पहुंच रहा है, क्योंकि नदी का तल सूख चुका है। उन्होंने कहा कि हालांकि, योगी सरकार ने यमुना पर ताजमहल की प्रवाह की दिशा में एक बैराज की घोषणा की है, लेकिन इसकी आधारशिला रखने के लिए कोई तारीख तय नहीं की गई है।

प्रदर्शनकारियों ने कहा कि हम नदी में पानी का बेरोक प्रवाह चाहते हैं, जिससे ताजमहल, आगरा किला, एतिमाद-उद-दौला मकबरे और राम बाग में बदलाव सुनिश्चि हो और वायु प्रदूषण में कमी लाई जा सके।

जुलूस के आयोजकों ने कहा कि यमुना नदी के तल की सफाई की जरूरत है। नदी कार्यकर्ता राहुल राज व दीपक राजपूत ने कहा कि टनों पॉलीथिन व जूतों के कारखानों से निकलता चमड़े के कण मिला पानी को रोके हुए है और नदी को प्रदूषित कर रहा है।

Related Articles