इटावा: उधारी से बचने के लिये दोस्त को उतारा मौत के घाट, आरोपी गिरफ्तार

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने बताया कि सात नवम्बर की रात्रि को सिविल लाइन क्षेत्र में राहतपुरा गांव के पास पुलिस को रेलवे ट्रैक पर शव मिला था जिसके शरीर पर कई चोटों के निशान थे।

इटावा: उत्तर प्रदेश में इटावा जिले के सिविल लाइन इलाके मे दोस्त की हत्या करने वाले युवक को पुलिस ने सोमवार को गिरफ्तार कर लिया।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने बताया कि सात नवम्बर की रात्रि को सिविल लाइन क्षेत्र में राहतपुरा गांव के पास पुलिस को रेलवे ट्रैक पर शव मिला था जिसके शरीर पर कई चोटों के निशान थे। शव की शिनाख्त रंजीत उर्फ मोनू के रुप में हुयी। परिजनों ने बताया कि रंजीत को उसका मित्र छोटे साथ लेकर गया था। परिजनो ने आरोप लगाया था कि उसके पुत्र की हत्या छोटू, सोनू तथा इनके पिता जगन्नाथ ने मिलकर की गयी है। सोनू एक शातिर किस्म का अपराधी है जो पूर्व में जेल जा चुका है।

इस मामले मे थाना सिविल लाइन पर धारा 302, 201 मे अभियोग पंजीकृत किया गया। आज पुलिस टीम कम्पनी गार्डन के गेट पर संदिग्ध व्यक्ति/वाहन चैकिंग कर रही थी कि तभी मुखबिर से सूचना मिली कि सोनू राहतपुरा से सरैया की ओर जाने वाले सड़क के तिराहे पर खड़ा है। युवक ने पुलिस टीम को देख भागने का प्रयास किया लेकिन उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

गिरफ्तार आरोपी ने पुलिस पूछताछ मे बताया कि रंजीत से 73000 रुपये उधार लिए गए थे जिन्हे रंजीत बार बार मांग रहा था। इसी लिए छोटू किसी बहाने से अपने घर बुला लाया था जहा पर रंजीत को शराब पिलाई गयी थी तथा जब वह अत्यधिक नशे मे हो गया तो उसका गला दबाकर हत्या कर उसके शव को राहतपुरा गाव के पास रेलवे ट्रैक पर फेंक दिया था।

यह भी पढ़े: अफगानिस्तान: गजनी हमले का मास्टरमाइंड हवाई हमले में ढेर

Related Articles

Back to top button