छात्रों के प्रदर्शन से पहले ही संस्थान प्रशासन ने फीस बढ़ोतरी का फैसला लिया वापस

बरेली : भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान (आइवीआरआइ) प्रशासन ने फीस बढ़ोतरी का फैसला वापस ले लिया है। आइवीआरआइ में फीस बढ़ोतरी के खिलाफ आंदोलन शुरू करने वाले छात्रों को इंडियन वेटनरी एसोसिएशन का भी समर्थन मिल गया। एसोसिएशन ने भी छात्रों को बधाई दी और इस फैसले का स्वागत किया। एसोसिएशन के अध्यक्ष चिरंतन कादियान ने कहा कि नई फीस जो भी निर्धारित की जाए, वह छात्रों का हित देखते हुए किया जाए।

संस्थान सूत्रों के मुताबिक, अब नए फीस स्ट्रक्चर में हर साल महंगाई की तरह 10 फीसद बढ़ोतरी का प्रस्ताव लाया जाएगा। मतलब अपने आप हर नए सत्र में 10 फीसद फीस में इजाफा हो जाएगा। यह देशभर के कई शिक्षण संस्थानों ने लागू कर रखा है। इससे छात्रों पर बोझ भी नहीं बढ़ेगा और आर्थिक तौर पर संस्थान पर भी भार नहीं बढ़ेगा।

मंगलवार को छात्रों का धरना-प्रदर्शन शुरू होता इसके पहले ही संस्थान प्रशासन ने छात्रों की मांगे मान ली। तय हुआ है कि बढ़ी हुई फीस पर अगले एकेडमिक काउंसिल की बैठक में फैसला होगा। तब तक पुरानी फीस ही छात्रों से ली जाएगी।

इसके बाद छात्रों ने धरना प्रदर्शन नहीं करने का फैसला लिया। ज्वाइंट डायरेक्टर प्रो. त्रिवेणी दत्त ने बताया कि छात्रों की डिमांड को देखते हुए फिलहाल पुराने फीस स्ट्रक्चर को ही लागू रखने का फैसला लिया है। नया फीस स्ट्रक्चर अगले सत्र से लागू किया जाएगा और इसका निर्धारण भी नए सिरे से होगा।

Related Articles