प्रदेश में सब अच्छा है, पुलिस की गुंडई है, नारी का अपमान है और बलात्कारियों का सम्मान है

सीएम योगी
सीएम योगी

हाथरस: हाथरस में पुलिसिया गुंडई और प्रदेश सरकार की मनमानी अब चरम पर पहुंच गई है. पहले जहां पुलिस ने मासूम के घर को छावनी में तब्दील कर वहां मौजूद परिवार के सदस्यों का सांस लेना मुश्किल कर दिया. अब हालात का जायजा लेने जा रहे पत्रकारों के साथ भी बेहूदगी की सारी हदे पार की जा रही है. महिला पत्रकारों के साथ लगातार बद्सलुखी की जा रही है. प्रदेश के दो अलग-अलग न्यूज़ चैनलों की महिला पत्रकार ने जब वहां मौजूद योगी के पुलिसवालों से मासूम के घर जाने की अनुमति मांगी, तो योगी की घमंडी और निर्लज्ज पुलिस ने उन्हें जबरदस्ती गाड़ी में बैठाकर इलाके से दूर छोड़ दिया.

रेप को सपोर्ट करती उत्तरप्रदेश की पुलिस

उत्तरप्रदेश की पुलिस और सरकार आखिर बलात्कारियों के लिए इतनी सहज क्यों हो गई है. प्रशासन ने जैसा माहौल आज तैयार किया है उससे तो यही लगता है की अब वो दिन दूर नहीं जब रेप करने वालों को राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजा जायेगा. रेप जैसे संवेदनशील मुद्दे पर सरकार और प्रशासन का ये रवैया संदेहास्पद है. आखिर किसे बचाने की कोशिश की जा रही है, कौन है जो नहीं चाहता की मासूम को न्याय मिले.

प्रधानमन्त्री चुप है. सीएम खामोश है. लेकिन हाथरस के डीएम साहब बोल रहे है, परिवार को सरेआम धमका रहे है, मीडिया से दूर रहने की सलाह दे रहे है, अपने हनक का पूरा इस्तेमाल कर रहे है. पूरी कोशिश में जुटे है की मामले को जितना जल्दी हो सके रफा-दफा किया जाये.

प्रदेश में सब अच्छा है, बस हर गुजरते मिनट में एक रेप ही तो हो रहा है. प्रदेश में सब अच्छा है, बस हर बोलती जुबां को बंद किया जा रहा है. प्रदेश में सब अच्छा है, पुलिस है, नारी का अपमान है और बलात्कारियों का सम्मान है.

 

ये भी पढ़े- Hathras Case: विपक्ष के साथ साथ अब पार्टी के अंदर भी उठने लगी आवाजें

Related Articles