फर्जी इंटरनेशनल कॉल सेंटर का भंडाफोड़, देखें कही आपके पास तो नहीं आई कॉल

नई दिल्ली: वेस्ट दिल्ली साइबर सेल Cyber Cell की टीम ने अमेरिकी नागरिकों को ठगने वाले अंतरराष्ट्रीय फर्जी कॉल सेंटर (Fake Call Center ) का भंडाफोड़ किया।इस फर्जी कॉल सेंटर में काम करने वाले कर्मचारी अमेरिका के सीमा शुल्क विभाग, सीमा सुरक्षा विभाग, ड्रग प्रवर्तन एजेंसी, शेरिफ, एफबीआई, ट्रेजरी ऑफिस के अधिकारी और कर्मचारी बनकर वहीं के लोगों को डरा कर उनसे मोटी रकम वसूलते थे।

अंतरराष्ट्रीय कॉल सेंटर का रैकेट

साइबर सेल को जानकारी लगी की फतेह नगर इलाके में फर्जी अंतरराष्ट्रीय कॉल सेंटर का रैकेट चल रहा है। एसीपी सुदेश रंगा के निर्देशन में साइबर सेल के इंस्पेक्टर अरुण चौहान, एसआई अमित वर्मा, एसआई महेश कुमार, हेड कांस्टेबल विवेक कुमार, हेड कांस्टेबल दातार, कॉन्स्टेबल सुरेंद्र, कॉन्स्टेबल विजेंदर, महिला कांस्टेबल सुमन यादव और श्री रेड को शामिल कर टीम गठित की गई। शुक्रवार को हरि नगर में साइबर सेल वेस्ट डिस्ट्रिक्ट की टीम ने एक फर्जी इंटरनेशनल कॉल सेंटर पर छापेमारी करके कई लोगो को गिरफ्तार किया हैं।

65 टेलीकॉलर गिरफ्तार

पुलिस ने बताया कि इस कॉल सेंटर को चलाने वाले दो मालिक हैं, जिनके नाम लखन जगबानी और विजेंद्र सिंह रावत को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा इसमे काम करने वाले 65 टेलीकॉलर को गिरफ्तार किया गया है, जिसमें काफी संख्या में लड़कियां और महिलाएं शामिल हैं। उनके पास से 58 कंप्यूटर, दो लैपटॉप एक अंतरराष्ट्रीय डिस्ट्रीब्यूशन स्विच, एक इंटरनेट रूटर, 11 मोबाइल फोन, ठगी करने के लिए स्क्रिप्ट जो पहले से लिखे हुए रहते थे, टेलीकम्युनिकेशन सॉफ्टवेयर, वीओआईपी कॉलिंग डायलर, और इसके अलावा काफी सारे डेटा भी बरामद किए गए हैं।

इस तरह लोगो को डराते थे

पुलिस ने बताया कि ये लोग पहले लोगों को निशाना बनाकर पहले रिकॉर्ड किए गए धमकी भरे रोबो कॉल का प्रयोग करते थे, जिसमें कॉल उठाने वाले को अलग-अलग विभागों से बता कर पीड़ित कहते थे कि आपका एसएसएन जल्द ही निलंबित हो जाएगा। कानूनी कार्रवाई से बचना हैं तो IVR पर एक नंबर दबाकर कनेक्ट करें, कनेक्ट करते ही इस कॉल सेंटर में बैठे किसी भी टेलीकॉलर से जुड़ जाता और फिर टेलीकॉलर खुद को अमेरिका के अलग-अलग संस्थाओं के अधिकारियों के रूप में खुद को बताते।

साथ ही यह कह कर उसे डराते कि ड्रग का एक पार्सल जो अमेरिकी सीमा शुल्क और सीमा सुरक्षा विभाग द्वारा जब्त किया गया है, उस पर आपका नाम और आपके घर का पता है। इसमें जल्द ही आगे कानूनी कार्रवाई की जाएगी, ऐसा कह उनसे पैसे अलग अलग गिफ्ट कार्ड के माध्यम से वसूले जाते।

 

 

Related Articles