प्रशंसकों ने अपने चहेते खिलाड़ी माराडोना को आंसुओं के सैलाब में दी अंतिम विदाई

फुटबॉल के जादूगर अर्जेंटीना के लीजेंड फुटबॉलर डिएगो माराडोना को उनके प्रशंसकों ने आंसुओं के सैलाब में गुरुवार को अंतिम विदाई दी।

ब्यूनस आयर्स: फुटबॉल के जादूगर अर्जेंटीना के लीजेंड फुटबॉलर डिएगो माराडोना को उनके प्रशंसकों ने आंसुओं के सैलाब में गुरुवार को अंतिम विदाई दी। माराडोना को ब्यूनस आयर्स शहर के बाहर बेला विस्ता कब्रिस्तान में दफनाया गया। उनके निधन पर नियाभर में खेल प्रशंसक समेत खेल जगत की तमाम हस्तियां ने उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी।

आंसुओं के सैलाब में दी अंतिम विदाई

1986 फीफा विश्वकप में अर्जेंटीना को खिताबी जीत दिलाने में अहम योगदान अदा करने वाले माराडोना का बुधवार को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था। उनके अकास्मिक निधन से दुनियाभर में खेल प्रशंसक समेत खेल जगत की तमाम हस्तियां स्तब्ध रह गई और सभी ने उन्हें अपनी श्रद्धांजलि दी। माराडोना को ब्यूनस आयर्स शहर के बाहर बेला विस्ता कब्रिस्तान में दफनाया गया। जहां उनके माता-पिता को भी दफनाया गया था। कोरोना वायरस के कारण इसमें उनके परिवार के सदस्य और करीबी मित्र शामिल हुए।

माराडोना के निधन के बाद अर्जेंटीना में तीन दिन के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की गई थी। अपने चहेते खिलाड़ी को अंतिम विदाई देने के लिए कोरोना की चिंता किए बिना हजारों लोगों की भीड़ सड़क पर मौजूद थी। उनके अंतिम दर्शन के लिए लगभग एक किलोमीटर लंबी लाइन लगी थी। बढ़ती भीड़ को देखते हुए जब पुलिस ने पैलेस बंद करने की कोशिश की तो माराडोना के भावुक प्रशंसक और पुलिस के बीच हिंसक झड़प हुई।

माराडोना के ताबूत को अर्जेंटीना के राष्ट्रीय ध्वज और फुटबॉल जर्सी में लपेटा गया जिसपर नंबर 10 लिखा था। उल्लेखनीय है कि माराडोना जब तक फ़ुटबॉल खेले उन्होंने 10 नंबर की जर्सी ही पहनी। उनके पार्थिव शरीर को आख़िरी दर्शन के लिए वहां के राष्ट्रपति भवन में रखा गया था।

यह भी पढ़ें: अब भारत में भी बनेगी रूसी कोरोना वैक्सीन की 10 करोड़ खुराक

Related Articles