पीएम मोदी किसानों का अहित करना तो दूर, कभी सोच भी नहीं सकते: कैलाश चौधरी

केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने विपक्ष पर किसानों को भड़काने का आरोप लगाते हुए कहा है कि केंद्र सरकार एक बार फिर किसान संगठनों से सकारात्मक और सौहार्दपूर्ण बातचीत की कोशिश कर रही है।

जयपुर: केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने विपक्ष पर किसानों को भड़काने का आरोप लगाते हुए कहा है कि केंद्र सरकार एक बार फिर किसान संगठनों से सकारात्मक और सौहार्दपूर्ण बातचीत की कोशिश कर रही है। चौधरी ने रविवार को विश्वास दिलाते हुए कहा कि किसानों की माली हालत सुधारने के लिए पीएम-किसान सम्मान निधि योजना शुरू करने वाले प्रधानमंत्री ‌नरेन्द्र मोदी उनका अहित करना तो दूर, ऐसा कभी सोच भी नहीं सकते।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार एक बार फिर से किसान संगठनों से सकारात्मक और सौहार्दपूर्ण बातचीत की कोशिश में है। उन्होंने कहा कि विपक्ष किसानों को भड़का रहा है। केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि एमएसपी की व्यवस्था जारी है और रहेगी। हम इसे लिखकर भी दे सकते हैं।

उन्हें लगता है कि कांग्रेस की राज्य सरकारें और विपक्ष किसानों को भड़का रही हैं। उन्होंने कहा कि देश का किसान इन कानूनों के पक्ष में है, लेकिन कुछ लोग उन्हें भड़का रहे हैं। भरोसा है कि देश के किसान कुछ भी ऐसा नहीं करेंगे जिससे देश की शांति खतरे में पड़े।

ये भी पढ़ें : राशन नियमों में बड़ा बदलाव, तीन महीने तक नहीं लिया राशन तो…

मोदी के नेतृत्व और किसानों में विश्वास है।

उन्होंने कहा कि उन्हें मोदी के नेतृत्व और किसानों में विश्वास है। यकीन है कि किसान कभी भी ऐसा निर्णय नहीं लेंगे जिससे देश में कहीं भी अशांति पैदा हो। केंद्र के साथ बैठक में किसानों की शंकाओं को दूर किया जाएगा। हाल की बैठकों में कुछ मुद्दों को स्पष्ट किया गया था। यह विपक्ष की राजनीति है, वे विरोध को भड़का रहे हैं। हमें उम्मीद है कि किसान विरोध वापस लेंगे।

ये भी पढ़ें : किसानों ने कुंडली बॉर्डर पर आठ किलोमीटर तक लगाई जाम, बनाई बस्ती 

किसानों को नए बाजार मिलेंगे, नए विकल्प

उन्होंने किसानों से अपील करते हुए कहा कि मोदी सरकार विभिन्न क्षेत्रों में सर्वांगीण विकास के बीच खड़ी बाधाएं हटा रही है। इन सुधारों के बाद किसानों को नए बाजार मिलेंगे, नए विकल्प मिलेंगे, टेक्नोलॉजी का लाभ मिलेगा, देश का कोल्ड स्टोरेज इंफ्रास्ट्रक्चर आधुनिक होगा।

Related Articles

Back to top button