हरियाणा-राजस्थान की खेड़ा सीमा पर लगा किसानों का जमावड़ा

किसानों को हरियाणा पुलिस द्वारा दिल्ली-जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर खेड़ा सीमा पर रोके जाने से वहां किसानों का बड़ा जमावड़ा लग गया है।

चंडीगढ़: केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली के सिंधू वार्डर पर चल रहे किसानों के धरने और आंदोलन में शामिल होने जा रहे राजस्थान के हजारों किसानों को हरियाणा पुलिस द्वारा दिल्ली-जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर खेड़ा सीमा पर रोके जाने से वहां किसानों का बड़ा जमावड़ा लग गया है।

हरियाणा सरकार ने किसानों को आगे बढ़ने से रोकने के लिये सीमा पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया है तथा सड़कों पर अवरोधक और कंटेनर लगाये गये हैं। इससे जहां इस राजमार्ग पर यातायात बुरी तरह प्रभावित हुआ है वहीं किसान भी राजस्थान तरफ वाले राजमार्ग पर टेंट लगा कर धरने पर बैठे हुये हैं और इनकी संख्या लगातार बढ़ रही है।

खेड़ा सीमा पर किसानों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। यहां गुजरात और महाराष्ट्र से भी किसान पहुंच रहे हैं। वहीं शनिवार को राजस्थान से सांसद हनुमान बेनीवाल ने भी अपने समर्थकों और किसानों के साथ खेड़ा सीमा पर पहुंचने का ऐलान किया है।

किसानों को आगे बढ़ने से रोक रहे 

हरियाणा की रेवाड़ी पुलिस ने किसानों को रोकने के लिए केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल(सीआईएसएफ), त्वरित कार्रवाई बल(आरएएफ), वाटर कैनन की गाड़ियां और कंटेनर लगाकर रास्ता बंद कर दिया है। राज्य सरकार ने इसके अलावा पंजाब और राजस्थान से लगती अपनी अन्य सीमाओं से भी किसानों को आगे बढ़ने से रोकने के लिये इन्हें सील कर वहां बड़ी संख्या में सुरक्षा बैल तैनात किया है।

पुलिस ने किसी भी स्थिति से निपटने के लिये सभी आवश्यक इंतज़ाम किये हैं। दिल्ली-जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर जगह-जगह अवरोधक और कंटेनर लगाये गये हैं। इसके अलावा जयसिंहपुर खेड़ा, कोटकासिम-बोलनी और खंडोडा सीमा और भिवाड़ी की तरफ से धारूहेड़ा को आने वाले मार्ग पर नाकाबंदी कर अवरोधक लगाये गये हैं। राजमार्गों के साथ सर्विस लेन को भी बंद कर दिया गया है। आम यात्रियों को वैकल्पिक मार्गों से भेजा जा रहा है।

यह भी पढ़े: राज्यपाल ने पूर्व प्रधानमंत्री को लोकतंत्र और मानवता की मूर्ति बताया

Related Articles