शनिवार-रविवार को भी उत्तर प्रदेश में जारी रहेगा किसानों का आंदोलन

वही उत्तर प्रदेश के कई जिलों में भी किसानो ने आंदोलन छेड़ दिया है और विरोध प्रदर्शन करते हुए चक्‍का जाम कर दिया है। इस आंदोलन की भनक यूपी पुलिस को पहले से थी जिसके कारण 1 दिसंबर तक लखनऊ में धारा 144 लगा दी थी।

लखनऊ: देश भर के कई राज्यों में केंद्र सरकार से तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर किसान आंदोलन कर रहे है। वही उत्तर प्रदेश के कई जिलों में भी किसानो ने आंदोलन छेड़ दिया है और विरोध प्रदर्शन करते हुए चक्‍का जाम कर दिया है। इस आंदोलन की भनक यूपी पुलिस को पहले से थी जिसके कारण 1 दिसंबर तक लखनऊ में धारा 144 लगा दी थी। लखनऊ में अहिमामऊ-सुल्‍तानपुर रोड पर भारतीय किसान यूनियन सड़क जाम करके विरोध प्रदर्शन करने की तैयारी में थे, लेकिन सतर्कता के चलते इनके प्रदर्शन को पुलिस ने विफल कर दिया।

वही ये भी खबर आ रही है कि ये प्रदर्शन विफल होने के बाद किसानों ने शनिवार और रविवार को भी आंदोलन जारी रखने का ऐलान किया है। अहिमामऊ-सुल्‍तानपुर रोड पर भारतीय किसान यूनियन सड़क जाम करके विरोध प्रदर्शन करने की तैयारी को पुलिस ने कई किसानो को हिरासत में लेकर रोका था इसपर भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश उपाध्‍यक्ष हरनाम सिंह वर्मा ने कहा है कि पुलिस ने 77 किसानों को गिरफ्तार किया है, लेकिन इसपर पुलिस ने बताया है कि इन सभी किसानो को हिरासत में लेकर कुछ देर के बाद छोड़ दिया गया।

हमारे सभी किसान आंदोलन करने की तैयारी में थे

हरनाम सिंह वर्मा ने कहा, हमारे सभी किसान आंदोलन करने की तैयारी में थे लेकिन रात को ही पुलिस ने आंदोलन को कमजोर करने के लिए मेरे गांव नौबस्‍ता कला में घेराबंदी कर किसान भवन को घेर लिया। तय कार्यक्रम के अनुसार शुक्रवार को सुबह किसान अहिमामऊ-सुल्तानपुर मार्ग पर जाम करने के लिए निकले, लेकिन देवा रोड पर ही पुलिस ने हमें रोक लिया और सभी को ईको गार्डेन ले गए। हरनाम सिंह वर्मा ने दावा करते हुए कहा कुल 77 किसानों को गिरफ्तार किया है लेकिन हमारा आंदोलन रुकने वाला नहीं है। उन्‍होंने कहा कि रविवार को ट्रैक्‍टर-टाली से सैकड़ों किसान दिल्‍ली में धरना देने जाएंगे, उन्‍होंने कहा कि किसान तो न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य को लेकर कानून चाहते हैं लेकिन सरकार किसान विरोधी कानून थोप रही है।

ये भी पढ़े : कोरोना वैक्सीन की तैयारियों का जायजा लेंगे पीएम मोदी, शनिवार को करेंगे तीन शहरों का दौरा

लखनऊ शहर में अलग-अलग क्षेत्रो में किसानों का प्रदर्शन

इस मामले पर पुलिस ने कहा लखनऊ शहर में अलग-अलग क्षेत्रो में किसानों ने प्रदर्शन करने की कोशिश की और उन्हें रोकने के लिए हिरासत में लेकर बाद में छोड़ दिया गया। वही लखनऊ के संयुक्‍त पुलिस आयुक्‍त नवीन अरोड़ा ने बताया कि अहिमामऊ, चिनहट, और मोहनलालगंज समेत कुल पांच स्‍थानों पर विरोध प्रदर्शन करने के लिए किसान एकत्रित हुए थे, लगते ही पुलिस मौके पर पहुंच कर उन्‍हें समझा-बुझा कर धरना प्रदर्शन के लिए बनाये गये ईको गार्डेन भेज दिया गया।

ये भी पढ़े : केंद्र सरकार ने कृषि सुधार नहीं बल्कि कृषि उजाड़ कानून बनाया है: अखिलेश यादव

प्रदर्शन में किसानों की कुल संख्या

इस प्रदर्शन में किसानों की कुल संख्या करीब 250 रही होगी जिनमें अभी तक किसी को गिरफ़्तार नहीं किया गया है। नविन अरोड़ा ने बताया कि मोहनलालगंज में भी कुछ किसानों ने प्रदर्शन किया था और उनका भी ज्ञापन ले लिया गया है। इसके अलावा अपर पुलिस महानिदेशक कानून-व्‍यवस्‍था प्रशांत कुमार ने कहा कि किसानों की चेतावनी को देखते हुए पूरे प्रदेश में कानून-व्‍यवस्‍था के दृष्टिगत व्‍यापक तैयारी की गई है।

 

 

Related Articles