किसान संगठनों ने किया ऐलान, 6 फरवरी को करेंगे चक्का जाम

नई दिल्ली: केंद्र के कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान यूनियनों ने छह फरवरी को ‘चक्का जाम’ (Traffic Jam) करने की सोमवार को घोषणा की है। किसान संगठन अपने आंदोलन स्थलों के निकट क्षेत्रों में इंटरनेट प्रतिबंध, अधिकारियों द्वारा उत्पीड़न करने और अन्य मुद्दों के खिलाफ तीन घंटे तक राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों का चक्का जाम (Traffic Jam) करके अपना विरोध दर्ज कराएंगे। किसान संगठनों के नेताओं ने सोमवार को दिल्ली में सिंघू बॉर्डर पर संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वे छह फरवरी की दोपहर 12 बजे से अपराह्न तीन बजे तक सड़कों को अवरुद्ध करेंगे।

उन्होंने आरोप लगाया है कि पेश किया गया बजट 2021-22 में किसानों के साथ अनदेखी की गई है और उनके विरोध स्थलों पर पानी और बिजली की आपूर्ति को बंद कर दिया गया है। संयुक्त किसान मोर्चा ने यह भी आरोप लगाया कि किसान एकता मोर्चा के ट्विटर अकाउंट और ‘ट्रैक्टर2ट्विटर’ नाम के एक उपयोगकर्ता को प्रतिबंधित कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें : किसानों को बजट नहीं आया पसंद, सरकार ने किसानों को कुछ नहीं दिया: राकेश टिकैत

स्वराज इंडिया के नेता योगेंद्र यादव ने आरोप लगाया कि ट्विटर अकाउंट के खिलाफ कार्रवाई सरकारी अधिकारियों के अनुरोध पर की गई है। इसके आगे उन्होंने कहा कि इस बजट में कृषि क्षेत्र के आवंटन को कम कर दिया गया है। किसानों का कहना है कि उन्हें केवल कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की चिंता है और केंद्रीय बजट में कृषि क्षेत्र को क्या दिया गया है इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता।

ये भी पढ़ें : Bigg Boss 14: राखी सावंत का Love लपाटा, रुबिना दिलैक बनी दुश्मन

Related Articles

Back to top button