किसान संगठन 29 दिसंबर को कर सकते है सरकार से वार्ता-रामपाल जाट

नई दिल्ली, नये कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर आंदोलनरत किसानों ने आज सरकार के साथ वार्ता आयोजित करने का संकेत दिया है। आंदोलन के समर्थन में हरियाणा सीमा शाहजहांपुर पर पड़ाव डाल रखे किसानों का नेतृत्व कर रहे किसान महापंचायत के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामपाल जाट ने बताया कि आज संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक में सरकार को पत्र लिखकर यह संकेत दिया।

इसे भी पढ़े: शांति वार्ता के बाद भी हिंसा जारी, अफगानिस्तान की वायु सेना ने 66 आतंकवादियों को मार गिराया

रामपाल जाट ने बताया कि बैठक में 27 और 28 दिसंबर को गुरु गोविंद सिंह के दो छोटे साहबजादों की शहादत को सभी किसान संगठनों द्वारा मनाए जाने का निर्णय लिया गया है। रामपाल जाट राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (रालोपा) के संयोजक हनुमान बेनीवाल के राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन ( राजग) से नाता तोड़ लेने का स्वागत करते हुए कहा कि बेनीवाल का यह स्वागत योग्य कदम है। उन्होंने कहा कि यह हिम्मत की बात है कि बेनीवाल ने राज को ठुकरा कर किसानों की सेवा में आ रहे हैं।

इसे भी पढ़े: बीजेपी छोड़ NCP में शामिल हुए एकनाथ खडसे को ED ने भेजा नोटिस

बता दें नए कृषि कानून के खिलाफ देशभर के किसान संगठन एक महीने से ज्यादा समय से आंदोलन कर रहे है। किसान संगठन सरकार से इस नए कृषि कानून को वापस लेने का दबाव बना रहे है, इसके अलावा किसान संगठन नए कृषि कानून में एमएसपी को कानूनीजामा पहनाने का दबाव बना रहे है।

Related Articles