आगरा-मुंबई राष्ट्रीय राजमार्ग पर किसानों ने किया धरना प्रदर्शन

भारतीय किसान संघ के खरगोन, बड़वानी और धार जिलों से आए सैकड़ों किसानों ने मंगलवार को धार जिले के आगरा-मुंबई राष्ट्रीय राजमार्ग पर खलघाट स्थित टोल प्लाजा पर अपनी मांगों के समर्थन में 4 घंटे तक धरना प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा।

खरगोन/ बड़वानी: भारतीय किसान संघ के खरगोन, बड़वानी और धार जिलों से आए सैकड़ों किसानों ने मंगलवार को धार जिले के आगरा-मुंबई राष्ट्रीय राजमार्ग पर खलघाट स्थित टोल प्लाजा पर अपनी मांगों के समर्थन में 4 घंटे तक धरना प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा।

भारतीय किसान संघ के बड़वानी, धार और खरगोन जिलों के किसानों ने प्रांताध्यक्ष कमल सिंह अंजना के नेतृत्व में किसान कानून में संशोधन तथा क्षेत्रीय स्तर पर किसानों की समस्याओं को लेकर आज धार जिले के खलघाट स्थित टोल प्लाजा पर करीब 4 घंटे तक धरना प्रदर्शन कर धार के कलेक्टर आलोक कुमार सिंह को मुख्यमंत्री के नाम 29 सूत्रीय ज्ञापन सौंपा।

भारतीय किसान संघ के बड़वानी जिला अध्यक्ष मंशाराम पंचोले ने बताया कि किसानों ने फोरलेन आगरा-मुंबई राष्ट्रीय राजमार्ग की दो लाइनों को पूरी तरह से बंद कर वहां ट्रैक्टर ट्राली पर अपना मंच बना लिया था। अचानक सैकड़ों किसानों ने प्रदर्शन के दौरान अन्य दो लाइनों पर भी कब्जा जमाते हुए करीब आधे घंटे तक पूरे आगरा मुंबई राष्ट्रीय राजमार्ग को बाधित कर दिया। उन्होंने बताया कि पुलिस प्रशासन तथा किसान संघ के अन्य पदाधिकारियों की समझाइश पर उन्होंने आवागमन सुचारू कर दिया।

प्रांताध्यक्ष कमल कुमार अंजना ने कहा कि नए कृषि कानूनों में किसानों के हित में कुछ संशोधन करना चाहिए और इसके लिए क्षेत्र के किसानों ने 20,000 पत्र भी प्रेषित किए हैं। उन्होंने सीसीआई द्वारा कपास खरीदी में अनियमितताओं, नहरों का पानी खेतों तक नहीं पहुंचने, फसलों का उचित मूल्य, खराब फसलों का मुआवजा आदि क्षेत्रीय समस्याओं का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार को यथाशीघ्र इनका निराकरण करना चाहिए।

ये भी पढ़ें : बीएचयू: प्रो. बी. आर. मित्तल बने आईएमएस डायरेक्टर, बताई अपनी प्राथमिकता

जिला कलेक्टर आलोक कुमार सिंह बताया

जिला कलेक्टर आलोक कुमार सिंह बताया कि स्थानीय स्तर की समस्या को वह निराकृत करने का प्रयास करेंगे तथा शासन स्तर की समस्याओं को वह संभाग आयुक्त तथा प्रदेश शासन को अवगत करा रहे हैं। उन्होंने कहा कि खरगोन जिले के महेश्वर से निकलकर धार जिले के मनावर जाने वाली फेस चार नहर के माध्यम से किसानों को पानी मिलना सुनिश्चित हो, इसके लिए एक कमेटी बना दी गयी है।

ये भी पढ़ें : बांदा: आखिर ऐसा क्या हुआ कि एक ही जिले में तीन लोगों ने किया एक जैसा काम

नर्मदा बचाओ आंदोलन

इसके साथ ही सीसीआई की खरीदी के सुपर विजन के लिए भारतीय किसान संघ, सीसीआई, राजस्व और मंडी अधिकारियों की एक कमेटी गठित कर दी गई है और इसी तरह की कमेटियों का गठन अन्य जिलों में भी किया जा रहा है। उधर आज बड़वानी में अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति और नर्मदा बचाओ आंदोलन के बैनर तले कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन किया गया।

Related Articles

Back to top button