Farmers Protest: किसानों ने सरकार को दी चेतावनी, पांचवे दौर की बातचीत आज

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि किसान संगठनों को आंदोलन का रास्ता छोड़ कर बातचीत से समस्या का समाधान करना चाहिए।

नई दिल्ली: कृषि कानून में सुधार को लेकर किसान लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। सरकार किसानों को मनाने में जुटी है। लेकिन किसान उनकी किसी भी बात मानने को तैयार नहीं हो रहे हैं। इसी को लेकर आज फिर एक बार किसानों और सरकार के बीच पांचवे दौर की बातचीत होगी। जबकि किसान संगठनों ने भारत बंद का आह्वान कर दबाव बढ़ा दिया है।

भारत बंद की चेतावनी

किसान संगठनों ने कहा है कि तीन नए कृषि कानून को रद्द नहीं किया गया, तो 8 दिसंबर को भारत बंद किया जाएगा। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि किसान संगठनों को आंदोलन का रास्ता छोड़ कर बातचीत से समस्या का समाधान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत बंद भी किया जाता है तो बातचीत से ही रास्ता निकल सकता है।

पिछले 10 दिन से राष्ट्रीय राजधानी में चल रहे इस आंदोलन की सफलता को देखते हुए अन्य राज्यों में भी आन्दोलन शुरू हो गया है। किसानों के इस आंदोलन को राज्यों की ओर से समर्थन भी मिल रहा है।

किसानों के सपोर्ट में कई राज्य

बिहार में राष्ट्रीय जनता दल ने आज से धरना प्रदर्शन करने की घोषणा की है। भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी लेनिनवादी) ने भी किसानों की समस्याओं को लेकर आंदोलन करने का ऐलान किया है। इसके अलावा हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश और कई अन्य राज्यों से आंदोलनकारी किसानों को खाने पीने की वस्तुओं की भरपूर मदद की जा रही है। इस आंदोलन को ट्रेड यूनियन संगठनों, ट्रांसपोर्ट यूनियनों और छ अन्य लोगों का भी समर्थन मिल रहा है।

यह भी पढ़ें: झांसी: एमएलसी चुनाव में सपा प्रत्याशी ने मारी बाजी, बीजेपी को 4333 मतों से हराया 

Related Articles

Back to top button