कृषि बिल ( Farm Bill ) के विरोध में आंदोलन कर रहे किसानों की नजर अब 4 जनवरी पर

सोनीपत: दिल्ली में एक दिन पहले सरकार और किसान नेताओं के बीच दो मुद्दों पर सहमति बनने के बाद से कुंडली बाॅर्डर धरनास्थल पर किसानों के चेहरे पर खुशी है। अब उन्हें उम्मीद है कि चार जनवरी की बैठक में उनकी बाकी मांगें भी मान ली जाएंगी और जल्द ही आंदोलन ( Protest ) समाप्त हो जाएगा।

आज कुंडली बॉर्डर धरना स्थल पर बैठे हजारों किसानों का उत्साह देखते ही बनता था। कारण बुधवार को दिल्ली में आयोजित बैठक में सरकार के साथ दो मांगों पर सहमति बनने से अब किसानों को उम्मीद है कि चार जनवरी की बैठक में बाकी बची मांगों पर भी बातचीत सिरे चढ़ जाएगी।

कृषि कानूनों ( Farm bill ) के विरोध में किसान 35 दिनों से कुंडली बार्डर पर राष्ट्रीय राजमार्ग ( National Highway ) संख्या-44 को जाम कर बैठे हैं। इस कड़ाके की ठंड में धरना पर बैठे बुजुर्ग किसानों को ज्यादा परेशानी हो रही है। किसानों ने बातचीत के लिए सरकार को चार एजेंडा भेजा था, जिसमें दो पर सहमति बन गई है, लेकिन किसान नेता तीनों कृषि कानूनों ( Farm bill ) को रद्द कराने की अपनी मांग पर अड़े हैं।

हालांकि बैठक के बाद किसान नेताओं की ओर से यही संदेश दिया गया कि बातचीत सकारात्मक रही, जिससे आंदोलनरत किसानों में खुशी का माहौल है। उन्हें उम्मीद है कि ये तीनों कानून  बदले जाएंगे और उनकी खेती-किसानी पर कोई आंच नहीं आएगी।

यह भी पढ़ें: 1981 बैच के अधिकारी Sunit Sharma बने रेलवे बोर्ड के नए अध्यक्ष

Related Articles