संसद पर नहीं जाएंगे किसान, जंतर मंतर पर करेंगे विरोध प्रदर्शन

राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिव कुमार कक्का ने जानकारी देते हुए बताया कि 22 जुलाई से प्रत्येक दिन 200 किसान पहचान पत्र लगाकर सिंघू सीमा से जंतर-मंतर पर धरना प्रदर्शन करने के लिए जाएंगे।

नई दिल्ली: संसद का मानसून सत्र (monsoon session) शुरू हो चुका है। ऐसे में किसान संगठनों ने संसद (Parliament) का घेराव करने की योजना बनाई थी लेकिन किसान यूनियन के एक नेता ने दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के साथ बैठक के बाद कहा कि किसान कृषि कानूनों को वापस लिये जाने की मांग को लेकर जंतर-मंतर पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन करेंगे और कोई भी प्रदर्शनकारी संसद नहीं जाएगा जहां मानसून सत्र चल रहा है। राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिव कुमार कक्का ने जानकारी देते हुए बताया कि 22 जुलाई से प्रत्येक दिन 200 किसान पहचान पत्र लगाकर सिंघू सीमा से जंतर-मंतर पर धरना प्रदर्शन करने के लिए जाएंगे।

केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन की अगुवाई कर रहे 40 से अधिक किसान यूनियन के संयुक्त निकाय संयुक्त किसान मोर्चा ने योजना बनाई थी कि 22 जुलाई से हर दिन लगभग 200 किसान मानसून सत्र के दौरान संसद के बाहर विरोध प्रदर्शन करेंगे। संसद (Parliament) का मानसून सत्र (monsoon session) सोमवार को शुरू हो चुका है और 13 अगस्त को समाप्त होगा। कक्का ने कहा, हमने पुलिस को सूचित कर दिया है कि मानसून सत्र के दौरान हर दिन 200 किसान सिंघू सीमा से बसों में जंतर-मंतर जाएंगे। यह एक शांतिपूर्ण प्रदर्शन होगा और प्रदर्शनकारियों के पास पहचान का बेंच होगा।”

यह भी पढ़ें:  महिला सशक्तिकरण पर अनोखा TV Serial “रक्षाबंधन- रसाल अपने भाई की ढाल” 

Related Articles